ग्राम विकास सचिव कार्यालय पर तीन बजे तक लटकता रहा ताला

ग्राम विकास सचिव कार्यालय पर तीन बजे तक लटकता रहा ताला

रोस्टर के मुताबिक ग्राम सभा में उपस्थित नहीं मिले ग्राम विकास सचिव


महराजगंज। नौतनवां रतनपुर ब्लाक मुख्यालय पर तैनात सभी ग्राम पंचायत अधिकारियों के कार्यालयों में शुक्रवार को सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर बाद तीन बजे तक ताला लटकता रहा, वहीं दो कार्यालय खुले मिले जो प्राईवेट मुंशी के सहारे संचालित थे। जिसके कारण जरुरत मंद लोग ब्लाक मुख्यालय का चक्कर लगाते नजर आए।

जिले के जिम्मेदार अधिकारियों के उदासीनता के कारण नौतनवां ब्लाक के ग्राम विकास अधिकारी मनमाने तरीके से ड्यूटी कर रहे हैं, जिनके न तो कार्यालय खोलने का कोई समय निर्धारित है और ना ही बंद करने का, जिससे जरूरतमंदों को परिवार रजिस्टर, जन्म, मृत्यु प्रमाण पत्र आदि अभिलेखों के लिए अपना जरूरी काम छोड़कर ब्लाक का परिक्रमा करना पड़ रहा है और ग्राम पंचायत अधिकारी अपनी ड्यूटी में लापरवाही करने से बाज नहीं आ रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि अधिकांश ऐसे ग्राम विकास अधिकारी हैं जो हफ्ते में एक या दो बार ही ब्लाक पर आते हैं,

तथा बाकी के दिन उनका कार्यालय प्राइवेट मुंशिओं के सहारे चलता है तथा सचिव घर पर आराम फरमाते हैं। ब्लाक मुख्यालय पर आई सतिया, इंद्रकमल, सुराती, अमजद, रईश आदि लोगों ने बताया कि सचिव को कार्यालय पर ना आने से जरूरी दस्तावेजों के लिए कई दिनों से ब्लाक का चक्कर लगाना पड़ रहा है। और जब भी प्राइवेट मुंशी से सचिव के आने की जानकारी ली जाती है तो मुंशी हर बार आज या कल सचिव को आने की बात करते हैं लेकिन जब भी समय से आया जाता है तो पता चलता है कि सचिव नहीं आए हैं।

  • रोस्टर द्वारा गांवों में भी नहीं जाते सेक्रेटरी

बता दें कि ग्राम विकास अधिकारियों को जरूरी कामकाज निपटाने के लिए रोस्टर के अनुसार ग्राम पंचायत दिया गया है ताकि यह गांवों में जाकर ग्रामीणों की संबंधित समस्याओं का निदान कर सकें, लेकिन आलम यह है कि रोस्टर फर्जी साबित होता नजर आ रहा है। साहब कहीं और रहते है तथा रोस्टर वाले गांव पर होने का बहाना बनाया जाता है। जिसके पड़ताल के क्रम में ग्राम पंचायत पिपरा, बरगदवां, जगरनाथपुर, नरायनपुर, महुअवां, जिगिना, सिरसियां खाश, सेवतरी, कोहरगड्डी समेत कई गांवों के ग्रामीणों से ग्राम पंचायत अधिकारी के उपस्थिति की जानकारी ली गई लेकिन ग्राम विकास सचिव गांवों में भी मौजूद नहीं रहे।

  • मनमाने तरीके से ड्यूटी कर रहे नौतनवां ब्लाक के ग्राम विकास अधिकारी

सर्वविदित है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जब मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली तभी से सभी अधिकारी व कर्मचारीयों को कार्यालय पहुंचने का समय 9:30 बजे निर्धारित कर दिया था तथा मातहतों को इस निर्देश के अनुपालन के क्रम में कड़े निर्देश भी जारी किये गए थे। लेकिन नौतनवां के ग्राम विकास अधिकारियों के कार्य प्रणाली में जरा भी सुधार नहीं देखने को मिल रहा है। मुख्यमंत्री के आदेशों को धत्ता समझते हुए नौतनवां ब्लाक के सचिव अपने मनमानी रवैये से बाज नहीं आ रहे हैं
इस संदर्भ में एडीओ कापरेटिव अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि सेक्रेटरी की ड्यूटी रोस्टर के अनुसार प्रत्येक दिन ग्राम पंचायतों में रहती है।लेकिन अगर ग्राम पंचायतों में वह नहीं रहते हैं तो इसकी जांच कर अनुपस्थित लोगों के विरुद्ध कार्यवाही की जायेगी।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel