बिहार : पेटी कंट्रेक्टर व मुखिया के बीच हुई हाथापायी की जांच में पहुुंचे अधिकारी

कटावरोधी कार्य में हो रही घपला घोटाले की मामला गूंजेगी विधानसभा में : विधायक रामसिंह

बिहार : पेटी कंट्रेक्टर व मुखिया के बीच हुई हाथापायी की जांच में पहुुंचे अधिकारी

बाढ़ नियंत्रण विभाग के कनिय अभियंता बोरी पलटने की बात कहते हुए नजर आ रहे है।

ब्यूरो नसीम खान 'क्या'। 

बगहा। बेतिया जिले के बगहा स्थित गंडक नदी में हो रहे कटाव में कराए जा रहे कटावरोधी कार्य में बरती जा रही है घोर अनियमितता और धांधली को लेकर पूर्व मुखिया और पेटी कांट्रेक्टर के बीच मारपीट का एक वीडियो वायरल हो रहा है । लिहाजा यह मामला मीडिया में सुर्खियां बिटोरने के बाद अब मामला तूल पकड़ने लगा है।

IMG-20230526-WA0046

चुनांचे विभाग अपने कमियों को छुपाने के लिए बालू के जगह पर मिट्टी की बोरियां आनन फानन में डाल रही है।अनियमितता पकड़े जाने में कार्य करा रहे है बाढ़ नियंत्रण विभाग के कनिय अभियंता बोरी पलटने की बात कहते हुए देखे जा रहे है।

आइए समझते है क्या है पूरा मामला... 

बगहा में पारस नगर और ठकरहा प्रखंड के हरख टोली में गंडक नदी में कराए जा रहे कटाव रोधी कार्य में अनियमितता का मामला तूल पकड़ता दिख रहा है।दरअसल, ग्रामीण और संवेदक समेत जल संसाधन विभाग के अधिकारी आमने सामने हैं ।

IMG-20230526-WA0047

बताया जा रहा है की तकरीबन 7 करोड़ की लागत से 700 मीटर तक गेवियन यास्टर्ड लगाया गया है । इसमें 300 मीटर तक का गेवियन टूटकर कर नदी की धारा में समा गया है । लिहाजा ग्रामीणों में आक्रोश है, वही बगहा के पारसनगर मे 886.59 लाख से गाईड बांध बनाया जा रहा है । यहां भी बांध धस जाने का ग्रामीणों का आरोप है की जलसंसाधन विभाग के अधिकारी और संवेदक आपसी मिलीभगत से कार्य में भारी अनियमितता बरत रहे हैं । कार्य में हो रहे इसी लापरवाही के बाबत मोतीपुर पंचायत के पूर्व मुखिया सुरेंद्र यादव कार्यस्थल पर पहुंचे और मामले के बारे में जानकारी लेनी शुरू की । जब उन्होंने बालू के बजाय बोरियों में मिट्टी भरने के बारे में सवाल किया तो संवेदक भड़क गए और मुखिया के साथ हाथापाई हो गई । इस घटना के समय जल संसाधन विभाग के जेई भी मौजूद थे । इस घटना का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। कटावरोधी कार्य का जायजा लेने पहुंचे पूर्व मुखिया सुरेन्द्र यादव ने बताया कि बोरियों में बालू की जगह मिट्टी भरी जा रही है। इधर मौके पर मौजूद जेई का कहना है कि बोरियों में बालू ही भरा गया था, अभी जिसमें बालू नहीं दिख रहा उसे पलटने के लिए बोला गया है । बची हुई कोई बोरी सिली नहीं गई है,सब खाली किया जाएगा । वहीं ग्रामीणों के मुताबिक इस कटावरोधी कार्य को मई माह में समाप्त कर लेना है, लेकिन कार्य में इतना लूट खसोट हो रहा है कि बनने के साथ ही गेवियन यास्टर्ड नदी की धारा में समाते जा रहे हैं । ग्रामीणों का भी कहना है कि गेवियन की बोरियों में बालू की भराई करनी है और उसे फिर सिलना है, लेकिन संवेदक आनन फानन में बालू की जगह मिट्टी डालकर बोरियां पैक कर रहे हैं ।

वही इस संबंध मे बगहा विधानसभा के विधायक श्रीराम सिंह ने बताया की बगहा के पारसनगर मे बन रहे गाईड बांध नाली के पानी से धस गया है जो की घोर अनियमितता है इसकी जांच की मांग की गई है साथ ही करोड़ो का हो रहे वारा न्यारा का मामला विधानसभा मे भी उठाया जाएगा । संवेदक व अधिकारीयों के मेल से गाईड बांध मे घोर अनियमितता बरती जा रही है |

वही इस संबंध मे जांच करने आए मुख्य अभियंता बाढ़ नियंत्रण एवं जल संसाधन विभाग गोपालगंज अशोक कुमार रंजन ने बताया की यह रूटीन जांच है जहा जहा सिंक कर गया है वहा वहा फिर से काम कराया जा रहा है । साथ ही उन्होने यह भी कहा की मिट्टी भरा गया है मजदूरो द्वारा उसे पलटी करावाया जा रहा है,कोई आपत्ती जनक बात नही है।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel