swatantra vichar
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

साहित्य अध्ययन और मनन जीवन की श्रेष्ठता का उचित माध्यम।

साहित्य अध्ययन और मनन जीवन की श्रेष्ठता का उचित माध्यम। साहित्य अध्ययन, उन्नयन मनुष्य के जीवन में उत्कृष्टता का आधार होता है।साहित्य सदैव मनुष्य के जीवन में संवेदना, संवेदनशीलता एवं मानवता लाने का सकारात्मक कार्य करता है। हमारा साहित्य, भाषा, हमें आत्मिक गौरव का सदैव अभिभाष कराती है। इसीलिए जीवन...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

करोड़पति जन सेवक और अधनंगी जनता

करोड़पति जन सेवक और अधनंगी जनता बात राजनीयति के इर्दगिर्द ही रहती है ।  रहना भी चाहिए,क्योकि मुद्दा है जहाँ ,राजनीति है वहां। आज का मुद्दा है कि दो जून रोटी के लिए सरकार पर निर्भर  85  करोड़ कि आबादी वाले विश्व के सबसे बड़े लोकतनगर...
Read More...
विचारधारा  स्वतंत्र विचार 

 (युवा चिंतन) बिना असफलता के सफलता का कोइ आस्वाद नही होता। सफलता-असफलता जीवन के दो अहम पहलूl

 (युवा चिंतन) बिना असफलता के सफलता का कोइ आस्वाद नही होता। सफलता-असफलता जीवन के दो अहम पहलूl असफलता को झेलने के लिए आत्मविश्वास की परम आवश्यकता होती हैlअसफलता ऐसा स्वाद है जिसे हर व्यक्ति ने जीवन में कभी ना कभी जरूर चखा होगा। असफल होने से निराश होने की आवश्यकता नहीं है। महापुरुषों ने कहा है कि...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

अमेठी में क्या है कांग्रेस का मास्टर प्लान 

अमेठी में क्या है कांग्रेस का मास्टर प्लान  चर्चा में लोगों को कांग्रेस भले ही कमजोर दिखाई दे रही हो लेकिन इस बार कांग्रेस बड़े ही प्लानिंग के साथ चुनाव में उतरी है। कांग्रेस की प्लानिंग में गहराई है। उत्तर प्रदेश की अमेठी और रायबरेली ऐसी लोकसभा सीट...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

नमक खाकर भी भारत के खिलाफ आग उगलते नेताजी ! 

नमक खाकर भी भारत के खिलाफ आग उगलते नेताजी !  इन दिनों आम चुनाव का दौर चल रहा है चुनाव में सभी दलों द्वारा अपने पक्ष में मतदाताओं को लुभाने के लिए तमाम तरह की बयानबाजी की जाती है । ऐसे भी बयान वीर नेता हैं जिनकी जहरीली बयान बाजी...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

विश्व नेता की साख पर आघात हैं दुराचारी नेताओं के कारनामे!

विश्व नेता की साख पर आघात हैं दुराचारी नेताओं के कारनामे! राष्ट्रवाद के परचम को लेकर सबका साथ सबका विकास और बेटी पढाओ बेटी बचाओ के नारी सम्मान व सुरक्षा के नारे को शिरोधार्य कर भाजपा नीत राजग सरकार दस साल पूरे कर एक बार फिर जनमत हासिल करने के लिए...
Read More...
लाइफस्टाइल  टेक्नोलॉजी 

रिल्स नें खोई रियल लाइफ,हर कोई बनना चाह रहा स्टार

रिल्स नें खोई रियल लाइफ,हर कोई बनना चाह रहा स्टार सिर चढ़कर बोल रहा रिल्स बनाकर अपलोड करने का क्रेजजितेन्द्र कुमार "राजेश" त्रिवेणीगंज सुपौल (बिहार)शहर में इन दिनों सोशल मीडिया पर रिल्स बनाकर अपलोड करने का क्रेज सर चढ़कर बोल रहा है। युवाओं से लेकर बड़ों तक में...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

वोट के महत्व को समझे आम आदमी 

वोट के महत्व को समझे आम आदमी  लोकसभा चुनाव के दो चरण पूरे हो चुके हैं और तीसरे चरण के लिए विभिन्न राजनैतिक दलों द्वारा चुनाव प्रचार जारी है लेकिन सबसे बड़ी चिंता है मतदान का गिरता प्रतिशत। जिससे कि हर दल हताश हो रहा है। हमको...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

बाबा रामदेव की बढ़ती मुश्किलें 

बाबा रामदेव की बढ़ती मुश्किलें  पतंजलि आयुर्वेद के निदेशक और योग गुरु बाबा रामदेव की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। पहले भ्रामक प्रचार ने सुप्रीम कोर्ट ने माफी नामा मांगा जिसको बाबा रामदेव ने देश के सभी बड़े अखबारों में प्रकाशित करवाया और देश से...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

बड़े मियां तो बड़े मियां,छोटे मियां सुभानअल्लाह

बड़े मियां तो बड़े मियां,छोटे मियां सुभानअल्लाह आदर्श आचार संहिता की धज्जियां उड़ाने में बड़े मिया तो बड़े मिया,छोटे मियां सुभानअल्लाह ' की कहावत चरितार्थ होती दिखाई दे रही है ।  चुनावों में मतदाताओं को आतंकित करने के आरोपी देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के...
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

भारतीय रेल - सपने और हक़ीक़त

भारतीय रेल - सपने और हक़ीक़त          तनवीर जाफ़री                                                                                           भारतीय रेल मंत्रालय लोकलुभावन विज्ञापन जारी कर अपनी छवि गढ़ने की क़वायद में जुटा हुआ है। वंदेभारत श्रेणी की अलग अलग दिशाओं को जाने वाले एक एक रैक को प्रधानमंत्री द्वारा झंडी दिखाकर रवाना किया जाना और                                                                                                                                                                                                                                                                   
Read More...
संपादकीय  स्वतंत्र विचार 

11वें लोकसभा चुनाव - भाजपा युग का पहला अध्याय 

11वें लोकसभा चुनाव - भाजपा युग का पहला अध्याय                                  (नीरज शर्मा'भरथल')    विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के नौवें प्रधानमंत्री के रूप में पी.वी.नरसिम्हा राव ने 21 जून 1991 को शपथ ली और मंत्री मंडल का गठन किया। वे गैर- हिन्दी भाषी पृष्ठभूमि से प्रधानमंत्री बनने वाले मोरारजी देसाई...
Read More...