swatantra prabhat kavita
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीवनी।

संजीवनी।       क्यों खतो में इत्र की तरह महकते नहीं।क्यों गुलाबों की तरह महकते नहीं,क्यूं चिड़ियों की तरह चहकते नहीं।दफ्न हो रही है तमन्ना ए आरजू,क्यू कलियों की तरह खिलते नहीं।मर जायेगा आशिक़ तनहा होकर,क्यों खतो...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।

संजीव-नी। परछाइयों में तेरी रंग मिलाता हूं,तेरे एहसासों के संग बहा जाता हूं।  तेरा एहसास बडा इंद्रधनुषी जानम,,तेरे ख्यालो में भिखर बिखर जाता हूँ।।तेरे सांसों की खुशबू से इतर,कोई और महक नहीं सह पाता हूं ।.न...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी। जीने का कोई तरीका आसान तो दे दे ।

संजीव-नी। जीने का कोई तरीका आसान तो दे दे । जीने का कोई तरीका आसान तो दे दे ।हे ईश्वर जमीं नही दी,आसमान तो दे,थोड़ा सा जीने का अदद सामान तो दे।बहुत की अभिलाषा,लिप्सा,आकांक्षा नहीं,जीने का कोई तरीका आसान तो दे ।रोज खाली हाथ लौटता...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।

संजीव-नी। अपने स्वयं को पहचानो lपरिश्रम और बलिदान।महान राष्ट्र की पहचान,युवा उठो जागोअपने स्वयं को पहचानो,श्रम शक्ति और लगन,देश के विकास के लिएतुम्हें पैदा करनी है अगन। भारत है युवाओं का देशअनेक है...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

वोटवा हम काहे के डालीं

वोटवा हम काहे के डालीं पालटी आपन जीतत वा तौ, वोटवा हम काहे के डालीं।एक वोट से फरक क पड़िहै, ई सोचके हम परवाह न कइलीं। पालटी आपन जीतत वा तौ, वोटवा हम काहे के डालीं।अबकी नेतवा घर न अइले, न हम ऊके...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।

संजीव-नी। जिंदगी भी एक ख्वाब की तरह ही तो है ,मन कहता रिश्ता दुनियादारों से बनाए रखना,दिल कहता ताल्लुक फकीरों से बनाए रखनाlलोग सफलता को पचा नहीं पाते है ।बस दूरी तुम अमीरों से बनाए रखनाlबहुत...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

लोकतंत्र के खातिर भैया चलो चले मतदान करें

लोकतंत्र के खातिर भैया चलो चले मतदान करें लोकतंत्र के खातिर भैया चलो चले मतदान करें सारे कामों से पहले अपना यह पहला काम करे लोकतंत्र की जड़ को पानी वोट से अपनी से दे आए  लोकतंत्र के मीठे फल मिलकर हम सब खाए     लोकतंत्र की रक्षा में...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी| देख कर भी नही देख पाया ।

संजीव-नी| देख कर भी नही देख पाया । देख कर भी नही देख पाया ।फिर उस बात का जिक्लौटकर भुला नहीं पायाउस पल की याद है उसेजिया नहीं जिसे कभी,भोगा भी नहीं,जीने की जरूर कोशिश कीगहरे नहीं पैठ पाया,फिर भूल...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।। तेरे मायके जाने के बाद।

संजीव-नी।। तेरे मायके जाने के बाद। तेरे मायके जाने के बाद।तेरे मायके जाने के बाद,पूरा घर एक कोने मेंसिमट के रह गया है,सीढीया ऊपर जाने वालीऊपर नहीं जाती,नीचे आने वाली,नीचे नहीं आती,यूं तो बिस्तर डबल बेड का है,...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी। आप जग जाहिर होने लगे हो।

 संजीव-नी। आप जग जाहिर होने लगे हो। संजीव-नी।आप जग जाहिर होने लगे हो।आप अपने हो या बेगाने हो,आप जग जाहिर होने लगे हो।जालिम ये जमाना,ना-समझ नही ।रंजिशों में आप भी माहिर होने लगे हो।न जाने किस की सोहबत में रहते हो,...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी। आकाश की अनंत ऊंचाई दो l

संजीव-नी। आकाश की अनंत ऊंचाई दो l संजीव-नी। आकाश की अनंत ऊंचाई दो l    इनकी छोटी-छोटी हथेलियों में, पूरे ब्रह्मांड को समा जाने दो, संपूर्ण संभावना के साथ  पैदा हुआ नवजात, एक नन्हा पंछी तो है। आंखों में भविष्य के सपने  जल की निश्छलता, सूरज की किरणों...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।

संजीव-नी। आकृती ऐसी बनाना चाहता हूं।    आकृती ऐसी बनाना चाहता हूं जो सीधी भी, सादी भी, बोल दे सारी मन की व्यथा भी।    फूलों की दीपमाला सी धूप दीप सी मंत्रोचार सी।    जिसे चाह ना हो माया की, खुली हर पीड़ित...
Read More...