जमीनी विवाद गोसैसीपुर में हुए हत्याकांड में एक अभियुक्त को मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने किया गिरफ्तार

यादव व अन्य लोगों ने मिलकर मेरी पत्नी, बेटे व पत्नी की बहन पर हमला कर दिया जिससे इलाज के दौरान मेरी पत्नी कि मृत्यु हो गई एवं मेरे बेटे अंगद और पत्नी


स्वतंत्र प्रभात 


 

बस्ती। बस्ती जिले के कलवारी थाना क्षेत्र में जमीनी विवाद में हुए हत्याकांड में पुलिस ने एक अभियुक्त को मुठभेड़ के दौरान किया गिरफ्तार, गिरफ्तार अभियुक्त के पैर में लगी गोली, वही एक कॉन्स्टेबल भी हुआ घायल, हम आपको बताते चलें कि 27 तारीख को रामसरन पुत्र राम लौट निवासी ग्राम चरकैला  थाना कलवारी थाने पर लिखित तहरीर दिया कि उनकी पत्नी कुशलावती तीन बहनें हैं, जिनके बीच मेरे ससुर द्वारा ज़मीन का बैनामा कर दिया है  केवल घर की ज़मीन को लेकर विवाद चल रहा था कि 26.तारीख को मेरी पत्नी, बेटा अंगद पत्नी की बहन इशलावती अपने मायके ग्राम गोसैसीपुर गए थे जहाँ रात में सोते समय लगभग 11:30  बजे  दयाराम उर्फ मोनू पुत्र रामफेर यादव व अन्य लोगों ने मिलकर मेरी पत्नी, बेटे व पत्नी की बहन पर हमला कर दिया जिससे इलाज के दौरान मेरी पत्नी कि मृत्यु हो गई एवं मेरे बेटे अंगद और पत्नी की बहन का इलाज सदर अस्पताल बस्ती में चल रहा ह

पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर अभियुक्त दयाराम उर्फ मोनू पुत्र रामफेर यादव ने बताया कि मैंने व मेरे भाई ने मिलकर अपनी मौसी कुशलावती को कुल्हाड़ी से जान से मार दिया एवं अंगद व मौसी इशलावती को घायल कर दिए थे हम लोगों ने मौसी को मारने के लिए तमंचे का उपयोग इसलिए नहीं किये क्योंकि हमें डर था कि फायर की आवाज़ से गाँव के लोग इकठ्ठा हो जायेंगे मैंने तमंचा व कारतूस अपनी सुरक्षा के लिऐ रखा था कि यदि कोई पकड़ेगा तो फायर करके भाग जाउंगा और आज मै बाहर भागने के लिए गाड़ी पकड़ने जा रहा था कि पुलिस के द्वारा पकड़ लिया गया, वहीं पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि हमने इंस्पेक्टरों को लगाया है सारे अभियुक्त की गिरफ्तारी जल्द से जल्द कर ली जाएगी

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel