पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी मां – अशोक ।

पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी मां – अशोक ।

पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी मां – अशोक । ए •के • फारूखी ( रिपोर्टर ) ज्ञानपुर,भदोही । मां के देहावसान के बाद प्रतिदिन श्राद्ध कर्म करने के पश्चात पौधरोपण करते हुए अशोक कुमार गुप्ता कहते हैं कि मेरी मां पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी और अपने ऑक्सीजन , फल तथा

पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी मां – अशोक ।

ए •के • फारूखी ( रिपोर्टर )

ज्ञानपुर,भदोही ।

मां के देहावसान के बाद प्रतिदिन श्राद्ध कर्म करने के पश्चात पौधरोपण करते हुए अशोक कुमार गुप्ता कहते हैं कि मेरी मां पौधों के रूप में सदैव जीवित रहेंगी और अपने ऑक्सीजन , फल तथा औषधियों के रूप में आशीर्वाद प्रदान करती रहेंगी।  सुख दुख जीवन का एक अभिन्न अंग है यह सतत् चलाय मान है।

10 अक्टूबर 2017 से अनवरत वृक्षारोपण/ पौधरोपण कर ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से सम्पूर्ण विश्व को निजात दिलाने के साथ-साथ सवा करोड़ वृक्षों का पौधरोपण हेतु प्रतिबद्धता के साथ-साथ धरती को प्रदूषणमुक्त एवं स्वच्छ बनाए रखने के क्रम में आज दिनांक 21.01.2021को 1200 वें दिन श्राद्ध कर्म स्थल घोपैला पर जामुन एवं आंवले के वृक्ष का पौधरोपण किया।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष

संजीव-नी।
संजीव-नीl
संजीव-नी।
संजीव-नी।
संजीवनी।