विधवा रेप पीड़िता ने भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी से खुद को बताया जान का खतरा ।

विधवा रेप पीड़िता ने भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी से खुद को बताया जान का खतरा ।

विधवा रेप पीड़िता ने भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी से खुद को बताया जान का खतरा । अनिल पुरी (रिपोर्टर ) भदोही । उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद मे भदोही के भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता ने अपनी जान को खतरा जताते हुए हत्या की आशंका जताई है। पीड़िता ने कहा

विधवा रेप पीड़िता ने भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी से खुद को बताया जान का खतरा ।

अनिल पुरी (रिपोर्टर )

भदोही । उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद मे भदोही के भाजपा विधायक रविंद्र त्रिपाठी पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता ने अपनी जान को खतरा जताते हुए हत्या की आशंका जताई है। पीड़िता ने कहा कि पुलिस उस पर केस में समझौता के लिए दबाव बना रही है। उन्नाव में जिस तरह से विधायक ने युवती की हत्या की कोशिश की, मुझे डर है कि वैसे ही मुझ पर भी हमला होगा और मेरी हत्या हो जाएगी।  बताते चलें कि वाराणसी की महिला ने 10 फरवरी को भदोही विधायक समेत 6 लोगों के खिलाफ भदोही थाने में गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने 19 फरवरी को सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। तीन दिन बाद विधायक समेत पांच लोगों को क्लीनचिट दे दी थी। विधायक के भतीजे संदीप को गिरफ्तार कर लिया गया था। वह अभी जेल में है। पराड़कर भवन में मीडिया से बात करते हुए पीड़िता ने कहा कि भदोही पुलिस ने विधायक सहित पांच लोगों को क्लीनचिट दे दी है। जबकी वे लोग उसमें आरोपी हैं। जब से घटना घटी है, मेरे आस-पास संदिग्ध लोग घूम रहे हैं। मुझे धमकी मिल रही है। मैं काफी डरी हुई हूं। पुलिस ने सत्ता पक्ष के दबाव में विधायक सहित पांच लोगों को क्लीन चिट दी है। पुलिस इस मामले में कार्रवाई करने के बजाए मेरे ऊपर ही दबाव बना रही है।  उधर भदोही के एसपी राम बदन सिंह का कहना है कि मैं किसी पर कोई दबाव नहीं बना रहा हूं। जो हकीकत है वही किया गया है। मामला अभी खत्म नहीं हुआ है। युवती साक्ष्य पेश कर दे। मैं विधायक के खिलाफ कार्रवाई कर दूंगा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel