संजीवनी।

संजीवनी।

संजीवनी।

कुछ बातें सुन ले।

कुछ दर्द की बातें गहरी हमसे सुन ले,
कुछ गुफ्तगू नर्गिस ए बीमार से कर ले।

नाविस्त है तेरे हुस्न सा बेहतरीन,
दिल की बातें अब आंखों से कर ले।

मेरी फना पर ना खिलखिलाना तुम,
मेरी मौत का इल्जाम न अपने सर ले।

आओ बैठे जो लम्हे प्यार के पास पास,
जुदाई से पहले दिलों के हिसाब कर ले।

यू ना दिखा नरगिसी तेवर हमें,
आज अपने हुस्न को बेनजीर कर ले।

बेनजीर- अनुपम, नविस्त- लिखावट।

संजीव ठाकुर

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

गुजरात के राज्यपाल पहुंचे कृषि विवि कुमारगंज, कल किसानों को करेंगे संबोधित गुजरात के राज्यपाल पहुंचे कृषि विवि कुमारगंज, कल किसानों को करेंगे संबोधित
मिल्कीपुर ,अयोध्या। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज में  प्राकृतिक खेती संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन शनिवार को किया...

अंतर्राष्ट्रीय

पत्रकार गिउलिया कॉर्टेज़ ने जॉर्जिया मेलोनी पर किया ऐसा कमेंट, केवल 4 फीट की हो, नजर भी नहीं आती, 5 हजार यूरो का फाइन अब देना पड़ेगा पत्रकार गिउलिया कॉर्टेज़ ने जॉर्जिया मेलोनी पर किया ऐसा कमेंट, केवल 4 फीट की हो, नजर भी नहीं आती, 5 हजार यूरो का फाइन अब देना पड़ेगा
International Desk मिलान की एक अदालत ने एक पत्रकार को सोशल मीडिया पोस्ट में इतालवी प्रधानमंत्री जियोर्जिया मेलोनी का मजाक...

Online Channel

साहित्य ज्योतिष

राहु 
संजीव-नी।
संजीव-नी।
संजीवनी।
दैनिक राशिफल 15.07.2024