रुपईडीह ब्लॉक के 106 ग्राम पंचायतों में हैंडपंप मरम्मत और रिबोर करने के नाम पर करोड़ों का भ्रष्टाचार कौन है जिम्मेदार?

विभागीय अधिकारियों व प्रधान की मिली भगत से जमकर हुआ बंदर बांट 

रुपईडीह ब्लॉक के 106 ग्राम पंचायतों में हैंडपंप मरम्मत और रिबोर करने के नाम पर करोड़ों का भ्रष्टाचार कौन है जिम्मेदार?

प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च किए जा रहे हैं फिर भी ग्राम पंचायतों में हैंडपंपों की स्थिति बेहद खराब चल रही है।

स्वतंत्र प्रभात 
गोंडा । जल निगम व लघु सिंचाई विभाग से एनओसी लिए बगैर ग्राम पंचायतों में इंडिया मार्का हैंडपंप के रीबोर व मरम्मत के नाम पर प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च किए जा रहे हैं फिर भी ग्राम पंचायतों में हैंडपंपों की स्थिति बेहद खराब चल रही है।  विकास खंड रूपईडीह के  155 राजस्व गांव हैं।सभी राजस्व गांवों को मिलाकर लगभग 3540इंडिया मार्का हैंडपंप लगे हैं। इनमें ज्यादातर हैंडपंप खराब पड़े हैं।
 
इसे ठीक कराने के लिए ग्राम प्रधान सचिव के द्वारा प्रतिवर्ष 60 से 75 हजार रुपये की धनराशि आहरित करके रोबोर व मरम्मत के नाम पर डकारते हैं, लेकिन आज भी प्रत्येक राजस्व गांवों में हैंडपंप खराब पड़े हैं। ग्रामीण भी आवाज उठाते हैं, लेकिन जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे हैं। सिर्फ कागजों में हैंडपंपों का मरम्मत कराया जाता है । मरम्मत व रीबोर के नाम पर लाखों की धनराशि निकाली गई, लेकिन धरातल पर कुछ और ही नजारा देखने को मिल रहा हैं।
 
ग्राम पंचायत महादेव कला ,बेलवा बाजार, पिपरा बाजार,रूकमंगद पुर, कल्यान पुर, वीरपुर भोज, नौशहरा, पुरैनिया,भरिया लबेदपुर, बेलवा कर्मडीह ,पचरन, हरचंदपुर चौहट्टा परसदा भवानीपुर खुर्द केवलपुर शिवगढ़ मिश्रौलिया बिरमापुर लाल नगर रजनपुर सहित गांवों की जांच उच्च अधिकारियों के द्वारा किया जाए तो सारे राज बाहर निकल कर आ जाएंगे।अधिक गांवों में हैंडपंप खराब पड़े हैं। किसी में बालू तो किसी में पानी पीला आता है।
 
1002584563 स्कूलों में भी हैंडपंप खराब हैं। रसोइया व बच्चे इधर-उधर भटकते नजर आते हैं। ग्राम पंचायतों में कराए गए हैंड पंप के रीबोर में भारी अनियमिताएं की गई है सूत्रों के द्वारा बताया गया कि हैंड पंपों के रीबोर में लगाए गए पाइपों में बड़ा खेल खेला गया है बताया जा रहा है कि पुरानी पाइप ऑन को निकाल कर तथा कम गहराई तक  रीबोर कर अधिक गहराई तक रीबोर दिखा कर रूपये का अहरण किया गया है मानक के अनुरूप हैंड पंपों  का रीबोर नहीं किया गया है। केवल खानापूर्ति कर रुपए निकाल लिए गए हैं जिससे लोगों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।
 
 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel