रूसी हमले में दो विदेशी सहायता कर्मियों की यूक्रेन में मौत

रूसी हमले में दो विदेशी सहायता कर्मियों की यूक्रेन में मौत

स्वतंत्र प्रभात 
 

 यूक्रेन के पूर्वी में एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के साथ काम करने वाले चार लोगों की टीम को ले जा रही एक वैन के रूसी गोलाबारी के चपेट में आने से कथित तौर पर दो विदेशी सहायता कर्मियों की मौत हो गई। दर्जनों रूसी ड्रोन ने रविवार को कीव को निशाना बनाया जिसमें एक स्थानीय नागरिक घायल हो गया। संगठन ने अपने बयान में कहा कि रोड टू रिलीफ एनजीओ के चार स्वयंसेवक वैन के अंदर फंस गये थे, क्योंकि चासिव यार शहर के पास गोले लगने के बाद वैन पलट गई तथा उसमें आग लग गई। ये स्वयंसेवक युद्ध प्रभावित इलाकों से घायलों को निकालने में मदद करते थे।
 
सेरही पोपको ने एक टेलीग्राम पोस्ट में बताया कि ईरान निर्मित ड्रोन का मलबा शहर के कई जिलों में गिरा और कम से कम एक नागरिक घायल हो गया, जो सुरक्षित है। उन्होंने हमले में इस्तेमाल किए गए ड्रोन की सही संख्या नहीं बताई और कहा कि यूक्रेनी वायुसेना इस संबंध में बाद में जानकारी देगी।रूस के रक्षा मंत्रालय ने रविवार तड़के कहा कि मॉस्को की सेना ने पहले अमेरिका द्वारा आपूर्ति की गई तेज गति वाली तीन यूक्रेनी नौकाओं को नष्ट कर दिया था। ये नौकाएं क्रीमिया की ओर जा रही थीं। हालांकि, इस दावे की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी।

संगठन ने सोशल मीडिया मंच इंस्टाग्राम पर कहा कि हमले में कनाडा के एंथनी इहनाट की मौत हो गई, जबकि जर्मन चिकित्सा स्वयंसेवक रूबेन माविक और स्वीडिश स्वयंसेवक जोहान मैथियास थायर गंभीर रूप से घायल हो गये। रोड टू रिलीफ ने बताया कि वैन में सवार संगठन की निदेशक एम्मा इगुआल के बारे में अभी कुछ पता नहीं चल सका है। इगुआल, स्पेनिश नागरिक है। कुछ घंटों के बाद, स्पेन के कार्यवाहक विदेश मंत्री जोस मैनुअल अल्बेरेस ने स्पेनिश मीडिया को बताया कि मैड्रिड के अधिकारियों को मौखिक जानकारी मिली है कि 32 वर्षीय इगुआल की मौत हो चुकी है। कीव के सैन्य प्रशासन प्रमुख ने बताया कि रविवार को भी रूस द्वारा लॉन्च किए गए ‘दो दर्जन से अधिक ड्रोन’ को शुरुआती घंटों में कीव में मार गिराया गया।

 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष