मोदी और योगी ने मोटे अनाज की खेती प्रसंस्करण एवम उपयोग को दिया बढ़ावा : मिथिलेश त्रिपाठी

मोदी और योगी ने मोटे अनाज की खेती प्रसंस्करण एवम उपयोग को दिया बढ़ावा : मिथिलेश त्रिपाठी

स्वतंत्र प्रभात
अंबेडकरनगर। आजादी के अमृत महोत्सव मनाने के बाद केंद्र सरकार के मुखिया प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी  और वित्तमंत्री निर्मला सीता रमण ने विकसित भारत के संकल्प की पूर्णता हेतु सर्वसमावेशी और लोक कल्याणकारी बजट पेश कर बजट में देश की गरीब जनता, युवाओं,  महिलाओं सहित सभी वर्गों के हित के लिए प्राविधान किया है।
उपरोक्त विचार भाजपा जिलाध्यक्ष डाक्टर मिथिलेश त्रिपाठी ने किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष राम किशोर राजभर के साथ भाजपा जिला कार्यालय अटल भवन में आयोजित प्रेस वार्ता में व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने 135 करोड़ देशवासियों को अबतक की सबसे अच्छी और जनहितकारी बजट दिया है।

केंद्रीय बजट की सराहना करते हुए कहा कि बजट में गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्य, प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत सबको पक्का मकान, अति पिछड़े क्षेत्रों की विकास के लिए आकांक्षी ब्लॉक कार्यक्रम का विस्तार, प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन, कृषि, पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन को प्रोत्साहन, महिला स्वावलंबन के लिए महिला सम्मान विकास पत्र जारी करने,वरिष्ठ नागरिक,वेतन भोगियों की आयकर स्लैब को आकर्षक रूप दिया जाना यह प्रमाणित करता है कि केंद्र सरकार देश की प्रगति और जन कल्याण के लिए समर्पित भाव से कार्य करने वाली सरकार है।भाजपा किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष राम किशोर राजभर ने कहा कि केंद्रीय बजट में  मोटे, अनाज, प्राकृतिक और जैविक खेती के बढ़ावा देने के विषय पर ग्रामीण क्षेत्रों में किसान चौपाल आयोजित कर किसान भाइयों को  किसान मोर्चा के कार्यकर्ता जानकारी देंगे।उन्होंने कहा कि मोदी और योगी  ने मोटे अनाज की खेती प्रसंस्करण एवम उपयोग को बढ़ावा दिया है। उन्होंने केंद्रीय बजट को लोकहित कारी बताया। प्रेस वार्ता के अवसर पर भाजपा जिला मीडिया प्रभारी बाल्मीकि उपाध्याय, बृजेश तिवारी किसान मोर्चा जिला उपाध्यक्ष,जिला महामंत्री अमित पाण्डेय,जिला मंत्री अमित सिंह,विनय पाण्डेय उपस्थित रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel