झारखंड पुलिस परिवार प्रतिभा सम्मान समारोह, 74 मेधावियों को मिला सम्मान

झारखंड पुलिस परिवार प्रतिभा सम्मान समारोह, 74 मेधावियों को मिला सम्मान

संवाददाता : रांची

झारखंड पुलिस एसोसिएशन द्वारा रविवार को झारखंड पुलिस परिवार प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह में पुलिसकर्मियों के ऐसे बच्चों जिन्होंने प्रतियोगी परीक्षाओं सहित दूसरे क्षेत्रों में बेहतरीन प्रदर्शन कर किया है, उन्हें सम्मानित किया गया. सम्मान समारोह में मेडिकल, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, एनडीए, सीडीएस, बैंकिंग, प्रोफेसर, साइंटिस्ट, यूपीएससी, जेपीएससी, बीपीएससी सेवा में चयनित 74 पुलिसकर्मियों के मेधावी बच्चों को सम्मानित किया गया। झारखंड पुलिस परिवार सम्मान समारोह में एडीजी एमएल मीणा, आरके मलिक, प्रशांत सिंह, आईजी पंकज कंबोज, आईजी विजयलक्ष्मी जैसे सीनियर, आईपीएस अधिकारियों ने शिरकत की.

इन अफसरों द्वारा ही अलग-अलग क्षेत्रों में कामयाबी हासिल करने वाले पुलिसकर्मियों के बच्चों को सम्मानित किया गया. सबसे खास बात यह रही कि इस समारोह में न सिर्फ पुलिसकर्मियों के बच्चों को सम्मानित किया गया बल्कि उनके मां-बाप को भी इस मंच पर सम्मान दिया गया। बता दें कि इस वर्ष झारखंड पुलिस में कार्यरत कई अधिकारियों और कर्मचारियों के बच्चों ने मेडिकल, इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के क्षेत्र में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. लगभग 12 बच्चों ने नीट, कैट क्वालिफाई किया है,

वहीं छह से अधिक पुलिसकर्मियों के बच्चों ने जेपीएससी और बीपीएससी परीक्षाएं क्लियर की हैं. सम्मान समारोह के दौरान इस वर्ष कॉमनवेल्थ गेम्स में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले झारखंड पुलिस के खिलाड़ियों लवली चौबे, सुनील बहादुर क्षेत्री, दिनेश कुमार, राजेश कुमार सिंह को भी सम्मानित किया गया। पलामू जिला बल में कार्यरत उपेंद्र राय अपने बेमिसाल मूछों के लिए झारखंड पुलिस बल में पहचाने जाते हैं. झारखंड पुलिस परिवार सम्मान समारोह के अवसर पर पलामू से आए उपेंद्र राय को भी विशेष रूप से सम्मानित किया गया, उनकी मूंछ कार्यक्रम में आकर्षण का केंद्र बनी हुई थी।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel