जब रावण मेला की नही मिली अनुमति तो जगदीशगढ़ स्टेट ने गुब्बारा छोड़ नगरवासियों को दिया बधाई

जब रावण मेला की नही मिली अनुमति तो जगदीशगढ़ स्टेट ने गुब्बारा छोड़ नगरवासियों को दिया बधाई

 राज दरबार पडरौना के पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री आरपीएन सिंह ने राज परिवार संग गुब्बारा छोड़ रावण दहन परंपरा को कराया याद


 स्वतंत्र प्रभात 


कुशीनगर


पडरौना नगर के रामलीला मैदान में राज दरबार द्वारा प्रतिवर्ष विजयदशमी मेले के अवसर पर रावण दहन का कार्यक्रम किया जाता है । परंतु इस वर्ष जिला प्रशासन द्वारा रावण दहन की अनुमति नहीं मिलने से राज दरबार के तरफ से रावण दहन कार्यक्रम नहीं किया गया।

फिरभी अपने परंपराओं का जीवंत करते हुए राज दरबार के सदस्यों ने दरवार  परिसर में पटाखे, कागज के गुब्बारे और मिठाइयां बाट कर परंपराओं को जीवंत रखा। पडरौना नगर स्थित जगदीशगढ़ स्टेट सैकड़ों वर्षों से विजयदशमी के अवसर पर रामलीला मैदान में रावण दहन का कार्यक्रम किया जाता रहा है जिसमें पडरौना सहित आसपास के लोग रामलीला मैदान में पहुंचकर रावण दहन देखते थे।

 इस दौरान रामलीला मंचन पटाखों की आतिशबाजी और मेला में घूमकर आनंद लेते थे राजदरबार के लोग भी विजयदशमी के अवसर पर अपने दरबार में मौजूद रहते हैं। जगदीशगढ़ स्टेट के पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री कुंवर आरपीएन सिंह के देख-रेख में पूरा कार्यक्रम संचालित होता है किंतु विगत 2 वर्षों से जिला प्रशासन द्वारा कोरोना का हवाला देकर रावण दहन की अनुमति नहीं दी जा रही है।

 बीते विजयदशमी पर भी जिला प्रशासन ने रावण दहन की अनुमति नहीं दी थी दरबार के लोग अपनी परंपराओं को निभाते हुए दरबार परिसर में गुब्बारा छोड़कर कर परंपराओं को आगे जारी रखने का काम किया है।

किंतु इस वर्ष भी जिला प्रशासन द्वारा किसी भी तरह से रावण दहन व मेले का आयोजन करने की अनुमति नहीं मिलने पर दरबार के लोगों द्वारा कार्यक्रम नहीं किया गया। जबकि प्रति वर्ष की तरह दरबार के सभी सदस्य विजयदशमी के दिन पडरौना नगर स्थित जगदीशगढ़ स्टेट में मौजूद रहे। अपने परंपराओं को निर्वहन करते हुए पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री कुंवर आरपीएन सिंह दरबार परिसर में ही कागज के गुब्बारे उड़ाए और पटाखों की आतिशबाजी और लोगों से मुलाकात कर विजयदशमी के अवसर पर मिठाइयां बाट शुभकामना दिए।

इस दौरान जगदीशगढ़ राज परिवार के सदस्य पूर्व केंद्रीय मंत्री कुंवर आरपीएन सिंह,कुंवर अनील प्रताप नारायण सिंह, कुवर रानी मोहनी देवी, कुवर रानी सोनीया सिह, निता सिंह, यामिनी सिंह, सुहानी सिंह, रागिनी सिंह आदि दरबार के लोग मौजूद रहे।


 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel