पीले ईट व बालू से हो रहा छात्रावास का निर्माण, जिम्मेदार मौन

पीले ईट व बालू से हो रहा छात्रावास का निर्माण, जिम्मेदार मौन

एक करोड़ 20 लाख की लागत से विकास शुक्ला ठेकेदार द्वारा टेंडर लिया गया था। 


स्वतंत्र प्रभात 
 

रायबरेली-

महराजगंज राजकीय बालिका इंटर कॉलेज के छात्रावास निर्माण में पीले ईटों एवं बालू का हो रहा जमकर उपयोग। तथा शासन की मंशा तार तार करने में जुटे हैं ठेकेदार। बताते चलें की महराजगंज कस्बे के बछरावां रोड पर स्थित राजकीय बालिका इंटर कॉलेज प्रांगण में पीसीएल संस्था द्वारा वर्ष 2017 में एक छात्रावास बनाने हेतु एक करोड़ 20 लाख की लागत से विकास शुक्ला ठेकेदार द्वारा टेंडर लिया गया था। 


जिसमें 12 कमरों का छात्रावास बनाया जाना सुनिश्चित किया गया था। वर्ष 2017 से लेकर 2021 तक जितना निर्माण कार्य कराया गया है। वह मानक के विपरीत है तथा पीले ईटो का प्रयोग व बालू का प्रयोग कर दिवाले खड़ी कर दी गई। और प्लास्टर के कार्य में भी भारी मात्रा में बालू का प्रयोग किया जा रहा है। इससे साफ जाहिर होता है कि देश और प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा छात्रों को उपलब्ध कराए गए छात्रावास में भी जमकर बंदरबांट किया जा रहा है।


 तथा ठेकेदार की नीति के चलते छात्रावास भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया।ऐसे में यह साफ जाहिर होता है कि जब खेवनहार ही धन के बंदरबांट में शामिल हो जाएंगे तो कैसे होगा योगी और मोदी की विकास योजनाओं का कायाकल्प। य बात संपूर्ण क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है। 


अब देखना यह है कि एक करोड़ 20 लाख की लागत से बन रहे इस छात्रावास में बढ़ती जा रही घोर अनियमितता की जांच कौन करता है या फिर ठेकेदार द्वारा अपनी सेटिंग गेटिंग के चलते सब कुछ ऑल इज वेल कराने में कामयाब होंगे। 


लेकिन जिले में तैनात तेजतर्रार जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव के रहते हुए महराजगंज विकासखंड क्षेत्र में बन रहे छात्रावास में बरती जा रही घोर अनियमितता की जांच जिलाधिकारी किसको देंगे यह बात समय के गर्भ में है।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel