बस्ती से राज्यपाल के नाम पाती,आचार्य रामचंद्र शुक्ला के नाम यूनिवर्सिटी की स्थापना हो

बस्ती से राज्यपाल के नाम पाती,आचार्य रामचंद्र शुक्ला के नाम यूनिवर्सिटी की स्थापना हो

विश्वविद्यालय तक नहीं बना सके जबकि हिंदी का आप जैसे महान पुरुष एक शीर्ष प्रतिनिधित्व करते हैं। 


स्वतंत्र प्रभात

बस्ती जिले से किसान डिग्री कालेज छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष दुर्गादत्त पाण्डेय ने हिन्दी जगत के शीर्ष और शशक्त हस्ताक्षर आचार्य राम चंद्र शुक्ल के जन्म दिन पर उनकी स्मृति मे हिन्दी विवि की स्थापना के लिए राज्यपाल को पत्र लिखा है। 


इस पत्र की प्रति उप्र के मुख्यमंत्री को भी संबोधित कर भेजी गयी है। बस्ती जनपद की माटी मे जन्मे हिन्दी साहित्य के महान साहित्यकार, समीक्षक व निबंधकार महान विभूति आचार्य रामचंद्रशुक्ल जी की आज जयंती है। सोचता हूँ कैसे रहे होंगे कितने श्रम और संघर्षों से गुजर कर अपनी एक पहचान बनायी जिन पर पीढ़ियाँ गर्व करती नहीं थकतीं। पर इनके नाम से हम आजतक एक विश्वविद्यालय तक नहीं बना सके जबकि हिंदी का आप जैसे महान पुरुष एक शीर्ष प्रतिनिधित्व करते हैं। 


4 अक्तूबर 1884 को हमारे यहाँ अगौना मे जन्मे आचार्य रामचंद्रशुक्ल बीसवीं शताब्दी के हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार थे। उनकी द्वारा लिखी गई पुस्तकों में हिन्दी साहित्य का इतिहास प्रमुख है, जिसका हिन्दी पाठ्यक्रम को निर्धारित करने मे प्रमुख स्थान है। 


उच्च शिक्षा की दृष्टि से बस्ती मण्डल मुख्यालय होता हुआ भी एक विवि की स्थापना से अभी तक अधूरा है आचार्य शुक्ल के हिन्दी जगत मे उल्लेखनीय योगदान के चलते उनकी स्मृति मे महात्मा गांधी हिंदी विवि वर्धा की तर्ज़ पर बस्ती मे भी आचार्य राम चंद्र शुक्ल हिंदी विवि की स्थापना एक महान कदम होगा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel