विश्व दिव्यांगता दिवस पर माननीय राज्यमंत्री श्री पल्टूराम द्वारा दिव्यांग जनों को वितरित की गई ट्राई साइकिल व सहायक उपकरण

विश्व दिव्यांगता दिवस पर माननीय राज्यमंत्री श्री पल्टूराम द्वारा दिव्यांग जनों को वितरित की गई ट्राई साइकिल व सहायक उपकरण

आर्थिक व सामाजिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं,


बलरामपुर विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर माननीय राज्यमंत्री (होमगार्ड, सैनिक कल्याण,प्रांतीय रक्षक दल एवं नागरिक सुरक्षा विभाग) पल्टूराम एवं विधायक तुलसीपुर  कैलाश नाथ शुक्ला द्वारा अपने कर कमलों से दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के तत्वाधान में कृत्रिम अंग सहायक उपकरण योजना के तहत 78 दिव्यांगजन को ट्राई साइकिल, 7 दिव्यांगजन को व्हीलचेयर, 5 दिव्यांगजन को कान की मशीन, 4 दिव्यांगजन को स्मार्ट केन कुल 94 सहायक उपकरण वितरित किया गया।

इस अवसर पर राज्यमंत्री जी ने कहा कि दिव्यांगताजनों को समाज में बराबरी के स्तर पर लाने के लिए तथा उन्हें आर्थिक व सामाजिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिनका लाभ दिव्यांगजनों को मिल रहा है।इस अवसर पर परियोजना निदेशक अनिल कुमार सिंह, जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी अजीत कुमार सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी एमपी सिंह,जिला प्रोबेशन अधिकारी सतीश चंद्र उपस्थित रहे।

समस्त विद्यालय, महाविद्यालय एवं संस्थाएं छात्र/छात्राओं से छात्रवृत्ति/शुल्कप्रतिपूर्ति के लिए करायें आवेदन-जिला समाज कल्याण अधिकारी

बलरामपुर। जिला समाज कल्याण अधिकारी एम0पी0 सिंह ने बताया कि शासन द्वारा शैक्षिक सत्र 2021-22 में दशमोत्तर छात्रवृत्ति कक्षा -11 व 12 एवं अन्य दशमोत्तर कक्षाओं से सम्बन्धित छात्रों को छात्रवृत्ति/शुल्कप्रतिपूर्ति के लिए आवेदन करने एवं छात्रवृत्ति वितरण तथा अन्य कार्यों हेतु तृतीय चरण की समय-सारणी के अन्तर्गत कार्यवाही पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये है। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक से आग्रह किया है

 कि जनपद में स्थित समस्त विद्यालय, महाविद्यालय एवं संस्थाओं को समय-सारिणी के अनुसार दशमोत्तर छात्रवृत्ति कक्षा 11 व 12 एवं अन्य दशमोत्तर कक्षाओं से सम्बन्धित छात्रों को छात्रवृत्ति/शुल्कप्रतिपूर्ति के लिए आवेदन करने एवं छात्रवृत्ति वितरण तथा अन्य कार्यों हेतु तृतीय चरण की समय-सारणी के अन्तर्गत कार्यवाही पूर्ण कराने हेतु निर्देशित करें। छात्र/छात्राओं द्वारा आॅनलाइन आवेदन 03 दिसम्बर से 10 जनवरी, 2021 तक किया जाना है तथा जनपद स्तरीय विभागीय अधिकारी के डिजिटल सिग्नेचर से लाॅक डाटा के आधार पर बैंक/कोषागार के ई-पेमेन्ट के तहत पी0एफ0एम0एस0 से छात्र/छात्राओं के आधार लिंक बैंक खातों में सीधे धनराशि अन्तरित किया जायेंगा।

कृषकों की आय में की जा सकती है बढ़ोत्तरी -जिला कृषि रक्षा अधिकारी

सामायिक कीट, रोग एवं खरपतवार प्रबन्धन करके उत्पादन में होने वाली क्षति को 30 प्रतिशत तक रोका जा सकता है

बलरामपुर। जिला कृषि रक्षा अधिकारी डाॅ0 इन्द्रेषु कुमार गौतम ने किसान भाइयों को सूचित करते हुये बताया कि जनपद में गेंहूॅ एक प्रमुख खाद्यान्न फसल है। इसमें लगने वाले सामायिक कीट, रोग एवं खरपतवार प्रबन्धन करके उत्पादन में होने वाली क्षति को 30 प्रतिशत तक रोका जा सकता है तथा कृषकों की आय की बढ़ोत्तरी की जा सकती है।उन्होंने कहा कि भूमि एवं बीज शोधन- अनावृत्त कण्डुआ एवं करनाल बन्ट के नियंत्रण हेतु थीरम 75 प्रतिशत डब्ल्यू0पी0 अथवा कार्वेण्डाजिम 50 प्रति0 डब्ल्यू0पी0 की 2.5 ग्राम मात्रा प्रति किग्रा0 बीज की दर से बीज शोधन कर बुआई करनी चाहिए।

ब्यूवेरिया वैसियाना 1.15 प्रति0 की 2.5 किग्रा0 प्रति हे0 की दकरक से 60 से 70 किग्रा0 गोबर की खाद में मिलाकर हल्के पानी का छीटा देकर 8 से 10 दिन तक छाया में रखने के उपरान्त बुआई के पहले आखिरी जुताई पर भूमि में मिला देने से दीमक सहित भूमि जनित कीटों का नियंत्रण हो जाता है। भूमि जनित एवं बीज जनित रोगों से नियंत्रण के लिए ट्राइकोडर्मा विरडी 1 प्रति0 डब्ल्यूपी अथवा ट्राईकोरमा हारजेनियम 2 प्रति0 डब्ल्यू0पी0 की 2.5 किग्रा0 मात्रा से 60 से 70 किग्रा0 गोबर की खाद में मिलाकर हल्के पानी का छीटा देकर 8 से 10 दिन तक छाया में रखने के उपरान्त बुआई के पहले आखिरी जुताई पर भूमि में मिला देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि खरपतवार प्रबन्धन- सकरी पत्ती वाले खरपतावार जैसे गेहूंसा एवं जंगली जेैई के नियंत्रण हेतु आईसोप्रोट्यूरान 75 प्रति0 डब्यू0पी0 1.25 किग्रा0 अथवा सल्फोसल्फ्यूरान डब्ल्यूजी0 33 ग्राम अथवा क्लोडिनाफाप प्रोपैरजिल 15 प्रति0 डब्ल्यूपी0 4 ग्राम मात्रा 500 से 600 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर की  दर से बुआई के 20 से 25 दिन के बाद फ्लैटफैन नाजिल से छिड़काव करना चाहिए। चैड़ी पत्ती खरपतावार जैसे बथुआ, सेन्जी, कृष्णनील, हिरनखुरी, चटरी-मटरी, जंगली गाजर आदि के नियंत्रण हेतु 2-4डी0 सोडियम साल्ट 80 प्रति0 टेक्निकल की 625 ग्राम अथवा 2-4 डी0 मिथाइल एमाइन साल्ट 58 प्रति0 एस0एल0 1.25 लीटर मात्रा अथवा मेटसल्फ्यूरान मिथाइल 20 प्रति0 डब्ल्यू0पी0 20 ग्राम प्रति हे0 की दर से 500 से 600 लीटर पानी में घोलकर प्रति0 हे0 की दर से बुआई के 20 से 25 दिन के बाद फ्लैटफैन नाजिल से छिड़काव करना चाहिए।

कीट/रोग प्रबन्धन- दीमक एवं गुजिया वीविल के नियंत्रण हेतु क्लोरोपाइरीफास 20 प्रति0 ई0सी0 2.5लीटर प्रति हे0 की दर से सिंचाई के पानी के साथ प्रयोग करना चाहिए। पीली गेरुई सहिष्णु प्रदेश के तराई क्षेत्रों में आने वाले प्रकोप से बचाव के लिए प्रोपीकोनाजोल 500 मिली0 मात्रा को 500 से 600 ली0 पानी में घोलकर प्रति हे0 की दर से सुरक्षात्मक छिड़काव करना चाहिए। उन्होंने कृषक बन्धुओं को सलाह दी कि इस समय अपने खेत की सतत् निगरानी करते हुये रोग दिखने पर अपने नजदीकी कृषि रक्षा इकाई पर सम्पर्क करें, अथवा सहभागी फसल निगरानी एवं निदान प्रणाली के व्हाट्सएप् नम्बर 9452247111 या 9452257111 पर इसकी सूचना  तत्काल देकर समाधान/सलाह प्राप्त करें एवं किसी भी प्रकार फसलों की रोग/व्याधि/खरपतवार/कीड़े-मकौड़े के अधिक प्रकोप की स्थिति में जिला कृषि रक्षा अधिकारी के सी0यू0जी0 नम्बर-7839882249 पर समाधान प्राप्त कर सकते है।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel