जनवरी मेंरेलवे सुरक्षा बल के जवानों ने ‘‘मिशन जीवन रक्षा'' में 42 लोगों की जान बचाई

जनवरी मेंरेलवे सुरक्षा बल के जवानों ने ‘‘मिशन जीवन रक्षा'' में 42 लोगों की जान बचाई

1045 बच्‍चमुक्त कराया गया


 

○ स्वतंत्र प्रभात प्रयागराज ब्यूरो।

○रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) पर रेलवे संपत्ति, यात्री क्षेत्र, यात्रियों तथा उनसे संबंधित मामलों की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी का दायित्व सौंपा गया है। जनवरी 2022 से विभिन्न नामों के तहत कई प्रचालन आरंभ करने का निर्णय लिया गया है।‘मिशन जीवन रक्षा'' ‘के तहत मिशन मोड में आरंभ किया गया है। आरपीएफ के जवानों ने जनवरी 2022 के दौरान इस मिशन के तहत 42 लोगों, 20 पुरुषों तथा 22 महिलाओं की जानें बचाई। देखभाल और सुरक्षा के जरुरतमंद 1045 बच्चे (701 बच्चे तथा 344 लड़कियों), जो भारतीय रेल के संपर्क में आए, जनवरी 2022 के दौरान एनजीओ के समन्वयन के साथ अनुवर्ती कार्रवाई में मुक्त कराये गए। वर्तमान में पूरे भारतीय रेल के 132 रेलवे स्टेशनों पर चाइल्ड हेल्प डेस्क क्रियाशील हैं।

○महिला यात्रियों को बेहतर सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए कोड नाम ‘महिला सुरक्षा' के तहत कई नई पहल आरंभ की गई। जनवरी, 2022 के दौरान महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आरपीएफ ने प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर ‘‘मेरी सहेली'' टीमें तैनात की हैं जिससे कि अकेली यात्रा करने वाली तथा अपराध के प्रति संवेदनशील महिला यात्रियों को सुरक्षा उपलब्ध कराई जा सके। इस उद्देश्‍य के लिए पूरे देश भर में लगभग 13000 रेलगाड़ियों को कवर किया गया है। रोकथाम संबंधी अन्य उपायों में आरपीएफ ने उत्पीड़त तथा छेडछाड़ के मामलों में 05 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया तथा महिला डिब्बे में यात्रा कर रहे 2185 व्यक्तियों को बंदी बनाया।

○ महिला आरपीएफ जवान जो वर्तमान में कुल संख्या की लगभग 9 प्रतिशत हैं, ‘‘ऑपरेशन मातृशक्ति'' के तहत शिशु जन्म में आगे बढ़कर गर्भवती महिलाओं की सहायता करती हैं जो रेल यात्रा के दौरान प्रसव पीड़ा से गुजरती हैं। जनवरी 2022 के दौरान महिला आरपीएफ जवानों ने ऐसी सात महिलाओं की सहायता की और वे उनके बच्चों को इस सुंदर संसार में ला पाने में सहायक सिद्ध हुईं।

○‘ऑपरेशन यात्री सुरक्षा'' के तहत यात्री अपराध का मुकाबला करने के क्षेत्र में राज्य पुलिस के प्रयासों का पूरक है। जनवरी, 2022 के दौरान आरपीएफ ने यात्रियों के खिलाफ अपराध के 254 मामलों में संलिप्त 300 से अधिक अपराधियों को गिरफ्तार किया तथा उन्हें संबंधित जीआरपी/स्थानीय पुलिस के हवाले कर दिया। इसी ऑपरेशन ‘‘यात्री सुरक्षा'' के तहत आरपीएफ यात्रियों की सुरक्षा संबंधित या अन्य शिकायतों को प्राप्त करने तथा उनका समाधान करने के लिए 24 घंटे कॉल (टोल फ्री 139 तथा अन्य सोशल मीडिया फोरम अर्थात ट्वीटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम आदि) पर उपलब्ध है। जनवरी 2022 के दौरान, टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 139 (24 X 7) और सुरक्षा से संबंधित ट्विटर पर संकटग्रस्त यात्रियों से प्राप्त 11230 से अधिक कॉल/शिकायतों पर तुरंत ध्यान दिया गया और उनका समाधान किया गया।
○मानव तस्करी के खतरे को रोकने के लिए,  ऑपरेशन ‘‘आहट'' के कोड नाम के तहत कार्रवाई करते हुए, आरपीएफ ने जनवरी 2022 में 08 तस्करों की गिरफ्तारी के साथ 35 व्यक्तियों (22 अवयस्कों) को मुक्त कराया है तथा उन्हें पुलिस के सुपुर्द किया है।

○कई बार, यात्री रेलगाड़ी पर चढ़ने या स्टेशन छोडने की जल्दी में अपने सामान को छोड़ देते हैं। आरपीएफ के जवान अभिभावक के रूप में कार्य करते हैं तथा ‘‘ऑपरेशन अमानत'' के तहत उनके सही मालिकों तक उन्हें पहुंचाने के उद्देश्‍य से इन सामानों की सुरक्षा करने में सहायता करते हैं।इस ऑपरेशन के तहत 1552 यात्री को 2.8 करोड़ रुपये से अधिक के उनके सामान लौटाने में सहायता की।

○ 2019 में एनडीपीएस अधिनियम के तहत तलाशी लेने, जब्त करने तथा गिरफ्तार करने का अधिकार प्रदान किया गया है। नशीले पदार्थ की तस्करी के विरुद्ध अभियान चलाने पर पूरा ध्यान देने के लिए, आरपीएफ ने ‘‘ऑपरेशन नारकोस'' आरंभ किया है। इस अभियान के तहत आरपीएफ ने जनवरी 2022 के दौरान 87 व्यक्तियों की गिरफ्तारी के साथ 4.57 करोड़ रुपये के बराबर नशीले उत्पादों को जब्त किया है।

○आरपीएफ ने तंबाकू उत्पादों, बेहिसाबी नकदी, अवैध शराब, बेनामी बेशकीमती रत्नों, तस्करी की गई वस्तुओं आदि को अवैध रूप से लाने ले जाने के विरुद्ध ‘‘ऑपरेशन सतर्क'' नामक अलग से एक अभियान की शुरुआत की है जिसके तहत 119 व्यक्तियों की गिरफ्तारी के साथ 19 लाख रुपये के बराबर अवैध तंबाकू उत्पाद, 19 करोड़ रुपये के बराबर की अवैध शराब, 4.90 करोड़ रुपये के बराबर का बेनामी सोना, 11 लाख रुपये के बराबर की बेहिसाबी चांदी, 2.18 लाख रुपये के बराबर के अन्य तस्करी किए गए सामान तथा 2.50 करोड़ रुपये की बेहिसाबी नकदी जब्त की गई।

○रेलवे के जरिये वन्य जीवों के अवैध व्यापार में संलिप्त तस्करों के विरुद्ध ‘‘ऑपरेशन वाइलेप'' के तहत सख्त कदम उठाये हैं। जनवरी, 2022 के दौरान, आरपीएफ ने 2 व्यक्तियों की गिरफ्तारी के साथ 11 मामलों का पता लगाया तथा दुर्लभ कछुए, जंगली पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों, लुप्तप्राय गिद्ध आदि बरामद किए तथा उन्हें वन विभाग को सौंप दिया।

○‘‘रेल प्रहरी'' के तहत अभियान के संबंधित क्षेत्र से रिपोर्ट किए गए गंभीर मामलों का पता लगाने में राज्य पुलिस/कानून प्रवर्तन एजंन्सियों (एलईए) की सहायता करता है। जनवरी 2022 के दौरान, आरपीएफ ने हत्या, दुष्कर्म, डकैती/लूटपाट, अपहरण आदि जैसे गंभीर अपराध के 7 मामलों का पता लगाने में पुलिस/एलईए की सहायता की।

○आरपीएफ ने ‘‘ऑपरेशन डिग्निटी'' के तहत 80 वयस्क पुरुषों तथा 153 वयस्क महिलाओं को मुक्त कराया जो मुसीबत में थे तथा जिन्हें तात्कालिक देखभाल एवं सुरक्षा की आवश्यकता थी। ‘‘ऑपरेशन सेवा'' के तहत, आरपीएफ ने 1000 से अधिक बुजुर्गों, बीमारों, दिव्यांग व्यक्तियों की , बुजुर्गों को अपने कंधों पर बैठा कर उन्हें चिकित्सा सहायता उपलब्ध करा

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel