ड्यूटीरत फौजी की जमीन पर जबर्दस्ती चकरोट का निर्माण करा रहे है ग्राम प्रधान

ड्यूटीरत फौजी की जमीन पर जबर्दस्ती चकरोट का निर्माण करा रहे है ग्राम प्रधान

फौजी हमारे देश की शान होता है वह अपना घर और परिवार इस आशय से छोड़कर सीमा पर ड्यूटी करता है


स्वतंत्र प्रभात-अम्बेडकर नगर

फौजी हमारे देश की शान होता है वह अपना घर और परिवार इस आशय से छोड़कर सीमा पर ड्यूटी करता है कि देश सुरक्षित रहे देश वासी सुरक्षित रहे।ताजा मामला ग्राम उदय पुर अम्बेडकर नगर का है जहाँ के ग्राम प्रधान शिव प्रसाद सिंह उर्फ बबलू सिंह मनमानी तरीके से फौजी हरिबंश सिंह के खेत से जबरन चकरोट का निर्माण करा रहे है। इम मामले पर जब फौजी से बात की गयी तो उनका कहना था कि ग्राम प्रधान जबर्दस्ती चकरोट मेरे खेत से ले जा रहे है जबकि चकरोट का नक्शा दूसरी जगह से पास है।

जब फौजी से ग्राम प्रधान के ऐसा करने की वजह पूछी गयी तो फौजी का कहना था कि ये बदले की कार्यवाही कर रहे है अबकी बार के प्रधानी के इलेक्शन  में हम लोगों ने इनको वोट नहीं किया था। जिसका बदला ये  जबर्दस्ती मेरे खेत में से चकरोट निर्माण करवा कर लेना चाह रहे है।

उन्होनें कहा कि अवैध तरीके से चकरोट निर्माण रोकने के लिए उन्होने ग्राम प्रधान से बात की लेकिन वो नहीं माने और बोले चकरोट वहीं से जायेगा इसी लिए मजबूर होकर इसका  एक शिकायती पत्र  मेरे द्वारा  भीटी सचिव और भीटी एसडीएम को  दिया गया है।जिस पर उन्होनें शीघ्र उचित कार्यवाही करने की बात भी कही है।

फौजी का कहना है कि मैं बाहर ड्यूटी पर हूं और मेरा छोटा भाई भी दूसरे शहर में नौकरी करता है वर्तमान में मेरे घर पर कोई जिम्मेदार व्यक्ति मौजूद नहीं है  इसी बीच ग्राम प्रधान का मेरे खेत से अवैध तरीके से बिना नक्शे के चकरोट निर्माण कराना ठीक नहीं है। और अगर जरूरत पड़ी तो हम इसकी शिकायत जिले के जिलाधिकारी और प्रदेश के मुख्यमंत्री से भी करेंगे। 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष