गल्ला माफिया छीन रहे गरीबों के मुंह का निवाला।

गल्ला माफिया छीन रहे गरीबों के मुंह का निवाला।

क्षेत्राधिकारी के निर्देश पर थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार मौके पर पहुंचे ।


 स्वतंत्र प्रभात क्षेत्राधिकारी के निर्देश पर थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार मौके पर पहुंचे ।
 

मलिहाबाद- माल विकास खण्ड माल क्षेत्र के अंतर्गत प्रतिमाह हजारों कुंतल सरकारी खाद्यान्न इन माफियाओं द्वारा पार कर दिया जाता है । लतीफपुर गांव में अधिकारियों ने जब बड़ी मात्रा में सरकारी आपूर्ति का गेहूं देखा तो होश उड़ गये ।


 बृहस्पतिवार की देर रात किसी ने प्रशासन को लतीफपुर निवासी ओमप्रकाश सिंह उर्फ ओमे की रपटा नाला के बगल में बनी दुकानों से सरकारी गल्ला लादे जाने की जानकारी दी । क्षेत्राधिकारी के निर्देश पर थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार मौके पर पहुंचे ।


 वहां सरकारी गेहूं की अस्सी बोरी मिलीं । पुलिस ने सभी बोरियां कमरे में सील करा दिया था । शुक्रवार को एसडीएम के निर्देश पर नायब तहसीलदार ,पुलिस और एआरओ आपूर्ति ने लतीफपुर पहुंचकर जांच की । अधिकारियों ने बरामद गेहूं को गोदाम प्रभारी के सुपुर्द कर दिया है ।

 आवश्यक वस्तु निगम का खाद्यान्न प्रतिमाह चोरी से बिकता है । कुछ लोग कोटेदारों से गल्ला खरीदकर कालाबाजारी करते हैं । गरीब लोगों को मोहरा बनाकर कुछ रसूखदार गल्ले का परदे के पीछे से कारोबार करते हैं । तमाम बार यह दूसरों को ढाल बनाकर अपना बचाव कर लेते हैं ।


 प्रशासन की नजर इस मामले में टेढ़ी हुई है मामले से जुड़े एक अधिकारी ने बताया दोषी अब दूसरे के कंधे पर मामला डालकर निकलने के फिराक में जुटे हैं । गरीबों का पेट काटने वाले इन गल्ला माफियाओं को विभागीय शिथिलता भी खाद पानी का काम करती है जानकारों की मानें तो जांच टीम को तीन लोगों मुन्ना लाल उर्फ मुन्नू ओम प्रकाश व ब्रज मोहन के खिलाफ साक्ष्य मिले हैं अब डीएम से अनुमोदन मिलने का इंतजार है। 

एसडीएम मलिहाबाद नवीन चंद्र ने कहा कि जांच में ओमप्रकाश व मुन्ना लाल उर्फ मुन्नू के नाम प्रकाश में आए हैं जांच रिपोर्ट अनुमोदन के लिए जिलाधिकारी को भेजी गई है अनुमोदन के बाद दोषियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा ।
 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel