उन्नाव में रेल बेचने के विरोध में किसान यूनियन ने किया धरना प्रदर्शन

उन्नाव में रेल बेचने के विरोध में किसान यूनियन ने किया धरना प्रदर्शन

उन्नाव में रेल बेचने के विरोध में किसान यूनियन ने किया धरना प्रदर्शन


स्वतंत्र प्रभात-

उन्नाव

भारतीय किसान मजदूर यूनियन व कई किसान यूनियन ने मिलकर उन्नाव रेलवे स्टेशन पर आज केंद्र सरकार द्वारा  रेलवे की संपत्ति को बेचने व पैसेंजर ट्रेनों के संचालन को लेकर रेल संघर्ष मोर्चा ने सैकड़ो लोगो के साथ अपना धरना प्रदर्शन किया है। इस दौरान रेल बेंचना बन्द करो, देश बेंचना बन्द करो, पैसेंजर ट्रेन चालू करो जैसी मांगो को लेकर विरोध  प्रदर्शन करते हुए नारे भी लागाये गए। वही यूनियन के पदाधिकारियों ने उन्नाव रेलवे स्टेशन मास्टर को अपनी मांगों को पूरा करने को लेकर ज्ञापन सौपा है और मांगे पूरी न होने पर कई हजार किसानों व मजदूरों के साथ  जनपद के कई स्टेशन पर धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी भी दी है।

वही इस पूरे मामले में प्रदर्शनकारियों ने मीडिया से बातचीत में बताया की हमारी मांग ये है कि जिस के प्रधानमंत्री ने कहा था कि मैं देश नहीं मिटने दूंगा मैं देश नही बिकने दूंगा , वो प्रधानमंत्री आज पूरे देश की संस्थाएं जो जनता के द्वारा जनता के पैसे से बनी उन संस्थाओं को बेच रहा है। एक स्थित ऐसी आएगी की देश भी बिक जाएगा और हम भी बिक जाएंगे । जैसी स्थिति उन्होंने बना दी है कि हर आदमी को लालच देकर के उसने खरीद लिया है। और जनता कहीं से भी बोलने को तैयार नहीं है मैं रेलवे कम्युनिटी का सन 80 में मेंबर था एक साजिश के तहत उन्होंने करोना काल खत्म होने के बाद भी पैसेंजर ट्रेनें नहीं चलाई हैं।

रेलवे पैसेंजर टिकट अभी तक खुला नहीं है जबकि बसों में अभी तक उससे भी ज्यादा भीड़ है और दोगुना किराया लिया जा रहा है। गरीब किसानों और जनता की लूट है गरीब किसान जो मजदूर हैं उन्हें रोजी रोटी कमाना मुश्किल है रेलवे की अमिस्टी बनवाकर वह शहरों में जाकर रोजी रोटी कमाते थे बच्चों को पढ़ा सकते थे अपना इलाज करा सकते थे अच्छी परवरिश कर सकते थे। वह सारे लोग रोजगार विहीन हो गए हैं बच्चे भी बड़े शहरों में अमेस्टी बनवा कर पढ़ने जा सकते थे वह बच्चे अब या तो पढ़ाई छोड़ चुके हैं या मोटरसाइकिल से 200 रुपए खर्च करके शहरों के लिए जाते हैं हमारी मांग यह है कि सभी पैसेंजर गाड़ियो को चालू किया जाए किराया कम किया जाए।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष