ईमानदारी का इनाम खुशियों के रूप में मिलता है

ईमानदार एवं अच्छी छवि रखने वाले इंस्पेक्टर का बेटा बना लेफ्टिनेंट

ईमानदारी का इनाम खुशियों के रूप में मिलता है

परिवार में खुशियों का माहौल

उन्नाव।

कहते हैं ईमानदारी एक अच्छी नीति है जिसका इनाम भी मिलता है। बचपन में किताबों में भी पढ़ा गया है की ईमानदारी एक अच्छी नीति है। ईमानदारी से जीने वाले को भले ही कुछ तकलीफ उठानी पड़े परंतु उसका फल सदैव मीठा ही होता है। ऐसे ही जनपद में एक अच्छे इंस्पेक्टर गिने जाने वाले जिनकी ईमानदारी और सूझ बूझ की चर्चा जनपद में है।

हां ये बात अलग है कि कुछ लोगों को ईमानदार लोग पसंद नहीं आते परंतु आम जनता गरीब और शोषित लोगों को न्याय दिलाने का सदैव प्रयास करने वाले पुलिस इंस्पेक्टर में अखिलेश चंद्र पांडेय का नाम आता है। कुछ कारणों से ज्यादा दिन थाने के चार्ज पर नही रहे लेकिन जहां भी रहे लोगों के दिलों में अपनी अलग जगह बनाई है। इसी का फल मिला है आज उनका बेटा लेफ्टिनेंट के पद पर चुना गया है। जो उनके और उनके परिवार के लिए गर्व की बात है।

आपको बता दें जिले में विशेष जांच शाखा में तैनात इंस्पेक्टर अखिलेश पांडे के बेटे अमय पांडे का चयन एनडीए में लेफ्टिनेंट के पद पर हुआ है। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में चयनित अमय पांडेय का रुझान बचपन से ही डिफेंस की नौकरी करने का था। पहले ही प्रयास में अमय पांडेय ने सफलता हासिल कर ली। मंगलवार को फाइनल परिणाम में उनका चयन लेफ्टिनेंट के पद पर हुआ है। अमय इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता के अलावा सेवानिवृत्त शिक्षक दादा सुभाष पांडेय और दादी यशोदा पांडेय को दे रहे हैं। इंस्पेक्टर अखिलेश पांडेय ने बताया कि वह मूलतः जौनपुर जिला के असैथा पट्टी बलजोर पोस्ट गेरवा के रहने वाले हैं। मौजूदा समय में लखनऊ के इंदिरा

नगर में पत्नी सृष्टि पांडेय, बेटी श्रेया व बेटे अमय के साथ रह रहे हैं। बताया कि बेटे को पुणे में तीन साल प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके बाद उसे तैनाती मिलेगी। अमय ने बताया कि वह भी देश सेवा करना चाहते थे। मंगलवार को परिणाम आने के बाद से वह बेहद खुश हैं।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष