सिम पोर्ट करने वाला गिरोह हुआ बेनकाब तो पुलिस भी रह गई हैरान

-सिम पोर्ट कराने वाले उपभोक्ताओं के आधार कार्ड पर सिम निकाल कर साइबर क्रिमिनल को करते थे सप्लाई

सिम पोर्ट करने वाला गिरोह हुआ बेनकाब तो पुलिस भी रह गई हैरान

स्वतंत्र प्रभात 
मथुरा। सिम पोर्ट कराते समय सावधान रहें। हालांकि आप ज्यादा कुछ करने की स्थिति में नहीं हैं। मथुरा पुलिस ने एक ऐसे गिरोह को पकडा है जो सिम पोर्ट करने का काम करता है और जिन लोगों के सिम पोर्ट करता है उन्हीं के आधार कार्ड पर अन्य सिम निकाल कर उन्हें साइबर क्राइम करने वालों को बेच देते हैं। थाना गोवर्धन पुलिस ने तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। कब्जे से 53 फर्जी सिम कार्ड व 251 फर्जी सिम कार्ड, तीन मोबाइल बरामद किये गये हैं।

प्रभारी निरीक्षक थाना गोवर्धन विनोद बाबू मिश्रा के मुताबिक सकरवा बाई पास चौराहा से विजय गंगवार पुत्र खेमकरन निवासी मुड़िया तेली थाना नवाबगंज जनपद बरेली, करन गंगवार पुत्र रमेश गंगवार निवासी मुङिया तेली थाना नवाबगंज जनपद बरेली तथा शिवम मिश्रा पुत्र रजनीश मिश्रा निवासी बोहर नगला थाना नबाव गंज जनपद बरेली को गिरफ्तार किया गया है। ये लोग अपने अपने क्षेत्र में सिम पोर्ट कराने का काम करते हैं।

इन लोगों को जानकारी हुई कि राजस्थान के कुछ गांवों में काफी लोग साइबर क्राइम करते हैं। जिसके लिये उन्हें फर्जी नाम पते की सिम कार्ड की आवश्यकता होती है तो तीनों लोगों द्वारा मिलकर यह सभी सिमकार्ड पोर्ट कराने के नाम पर कस्टूमरों को गुमराह कर उनकी ई केवाईसी कराकर एक सिम उनको दे देते हैं तथा एक सिम उनका आधार कार्ड पुनः लगवाकर डी केवाईसी के माध्यम से एक्टीवेट करा लेते हैं।

लोगों के फर्जी आधार कार्ड तैयार कर उन्हें असली के रुप में प्रयोग कर उनसे भी फर्जी सिमकार्ड प्राप्त कर लेते हैं। फर्जी आधार कार्ड व डी केवाईसी के माध्यम से धोखाधड़ी कर उनके नाम की फर्जी सिम प्राप्त कर कामा राजस्थान व आसपास के क्षेत्रों में साइबर अपराध में लिप्त अपराधीगण को 1500 से 2000 रुपये प्रति सिम के हिसाब से बेच देते हैं।        

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel