सौतेले पुत्रों व पुत्री से परेशान वृद्ध विधवा न्याय के लिए भटक रही अधिकारियों के दरवाजे

चौकी सदर अस्पताल में तहरीर देने के बाद नहीं हुई कोई कार्रवाई, उल्टे चौकी प्रभारी ने पीड़िता को डांटकर भगा दिया

सौतेले पुत्रों व पुत्री से परेशान वृद्ध विधवा न्याय के लिए भटक रही अधिकारियों के दरवाजे

उपमहानिरीक्षक विंध्याचल परिक्षेत्र मिर्जापुर को पीड़िता ने तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की, डीआईजी से है विधवा को न्याय की आस 

स्वतंत्र प्रभात 
मीरजापुर। नगर के रामबाग चकबंदी कार्यालय के पास की निवासिनी अलीमुन्निशा पत्नी स्व.बन्ने राईन न्याय की आस लिए चौकी सदर अस्पताल पहुंची। जहां पर उनके द्वारा चौकी प्रभारी को मामले की तहरीर दी गई। पुलिस द्वारा उस पर कोई कार्रवाई न करते हुए उल्टे चौकी प्रभारी ने वृद्ध विधवा को डांटकर भगा दिया। अब पीड़िता ने न्याय के डीआईजी का दरवाजा खटखटाया और कारवाई के लिए तहरीर दी। पीड़िता को न्याय के लिए अधिकारियों के दरवाजे-दरवाजे भटकना पड़ रहा है।
 
वृद्ध विधवा का आरोप है कि उनके सौतेले पुत्रों व पुत्री द्वारा आएं दिन उनको मारा-पीटा जाता है। वह इस लिए मारते-पीटते है कि वह घर छोड़कर कहीं और चलीं जाए। उनका आरोप है कि जिसमें वह रहते हैं। उनके सौतेले पुत्र व पुत्री अपने खाला-खालू व उनके बच्चों को बसाना चाहतें हैं। उनके पास खुद का मकान नहीं है। जो वर्षों से मिर्जापुर में किराए के मकान में ही रहते हैं। उन लोगों की खासियत यह है कि जहां पर रहते हैं। उसका मकान जल्दी खाली नहीं करते। अगर खाली भी करते हैं तो उसके एवज में पैसे लेते हैं।
 
पीड़िता ने बताया कि जिस मकान में वह रहती है। वह मकान उनके पति का है। उस पर जितना हक सौतेले बच्चों का है। उतना ही हक हमारा और हमारे बच्चों का भी है। ऐसे में हम मकान को क्यों खाली करें। अगर मकान खाली कर देंगे तो हम और हमारे बच्चे कहां जाएंगे। उन्होंने बताया कि न्याय के लिए तहरीर लेकर चौकी सदर अस्पताल गई थी। चौकी प्रभारी तहरीर लेने के बाद कार्रवाई करने के बजाए उल्टे ही डांटने लगे। डांटने के बाद भगा दिया। न्याय की आस लिए उपमहानिरीक्षक विंध्याचल परिक्षेत्र मिर्जापुर के पास गई। जहां पर तहरीर दी गई है। भरोसा है कि वहां से मुझे न्याय मिलेगा।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel