अयोध्या अनादिकाल से हमारी सांस्कृतिक समृद्धता का प्रतीक : आनन्दीबेन पटेल

अयोध्या अनादिकाल से हमारी सांस्कृतिक समृद्धता का प्रतीक : आनन्दीबेन पटेल

स्वतंत्र प्रभात 

अयोध्या।डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय का 27 वां दीक्षांत समारोह शुक्रवार को प्रातः 11 बजे परिसर के स्वामी विवेकानंद प्रेक्षागृह में भव्यता के साथ सम्पन्न हुआ। समारोह की अध्यक्षता कुलाधिपति एवं राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला के पूर्व कुलपति प्रो0 कुलदीप चन्द अग्निहोत्री रहे। इस समारोह की विशिष्ट अतिथि उच्च शिक्षा राज्यमंत्री श्रीमती रजनी तिवारी रही। विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो0 प्रतिभा गोयल द्वारा स्वागत उद्बोधन किया गया।विश्वविद्यालय के 27 वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करती हुई उत्तर प्रदेश राज्यपाल व कुलाधिपति श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने कहा कि अयोध्या अनादिकाल से हमारी सांस्कृतिक समृद्धता का प्रतीक रही है। इसे आचार्य नरेन्द्रदेव एवं डॉ0 राममनोहर लोहिया जैसे राष्ट्रदृष्टा की कर्मस्थली होने का गौरव प्राप्त है। विश्वविद्यालय राष्ट्र के मानव संसाधन के उत्कृष्ट विकास के केन्द्र होते है। भारत का लोकतंत्र और संस्कृति हमारी धरोहर है। आज भारत विश्व भर को योग चिकित्सा की ओर प्रवृत्त कर रहा है। हमारा देश समृद्ध विरासत को सुरक्षित रखने के साथ-साथ वैश्विक स्तर पर प्रगति कर रहा है। कुलाधिपति ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 की संकल्पना धीरे-धीरे आकार ले रही है। अयोध्या के मन्दिरों से प्राप्त फूलों से इंत्र निर्माण कर विश्वविद्यालय सामाजिक दायित्वों की पूर्ति कर रहा है।
उन्होंने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि आज महिला सशक्तीकरण में प्रदेश अनुकरणीय कार्य कर रहा है। प्रदेश के छह विश्वविद्यालयों में छह महिला कुलपति कार्य कर रही है। पूरी निष्ठा से अपने दायित्वों का निर्वहन कर रही है। राज्य विश्वविद्यालयों के दीक्षांत समारोह में 80 प्रतिशत छात्राओं को स्वर्णपदक प्राप्त हुआ है। इससे स्पष्ट होता है कि शिक्षा के क्षेत्र में महिलाओं की भागादारी हर स्तर पर बढ रही है। यह प्रदर्शन स्वागत योग्य है और भारत के सामाजिक निर्माण की दिशा में एक सुखद संदेश है। कुलाधिपति ने कहा कि विश्वविद्यालय में शोध परियोजनाओं के साथ वैश्विक स्तर पर शिक्षण संस्थानों के साथ एमओयू बढ़ाने की आवश्यकता है जिससे शैक्षिक स्तर में गुणवत्तापरक सुधार हो सके। विश्वविद्यालयों को सामाजिक भागीदारी में सक्रिय भूमिका का निर्वहन करना होगा और ग्रामीण स्तर पर नागरिकों को जागरूक करना होगा। तभी सशक्त भारत की संकल्पना साकार हो सकेगी।
इस समारोह में कुलाधिपति एवं कुलपति द्वारा सर्वोच्च अंक प्राप्त स्नातक, परास्नातक एवं दानस्वरूप छात्र-छात्राओं को कुल 127 स्वर्णपदक प्रदान किए जायेंगे। इसमें विश्वविद्यालय परिसर एवं महाविद्यालयों के स्नातक, परास्नातक व पीएचडी में कुल 191074 छात्र-छात्राओं को उपाधि दी गई। जिसमें स्नातक के कुल 152080, परास्नातक के कुल 38897 व पीएचडी के कुल 97 छात्र-छात्राओं को उपाधि प्रदान की गई।कार्यक्रम से पहले कुलाधिपति द्वारा डॉ. लोहिया की प्रतिमा पर माल्यर्पण किया गया। उसके उपरांत विश्वविद्यालय के 65 बटालियन एसीसी कैडेटों द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। विश्वविद्यालय के प्रेक्षागृह में राज्यपाल व अतिथियों द्वारा मॉ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित किया गया। छात्राओं द्वारा वंदेमातरम, जल भरो कार्यक्रम एवं कुलगीत की संगीतमय प्रस्तुति की गई। अतिथियों का स्वागत कुलपति प्रो0 गोयल द्वारा पुष्पगुच्छ, श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह भेटकर किया गया। समारोह में राज्यपाल द्वारा विश्वविद्यालय की वार्षिक स्मारिका का विमोचन किया गया।कार्यक्रम के दौरान कुलाधिपति द्वारा प्राथमिक विद्यालयों के 30 छात्र-छात्राओं को बैग, बुक किट व फल की टोकरी देकर सम्मानित किया गया। इसी कुलाधिपति द्वारा आगनबाडी़ कार्यकत्रियों को सेवा कार्य में प्रोत्साहन के लिए बच्चों के खिलौने, साइकिल, कुर्सी प्रदान किए गए। कार्यक्रम का सफल संचालन प्रो0 संत शरण मिश्र द्वारा किया गया। धन्यवाद ज्ञापन कुलसचिव उमानाथ ने किया।समारोह में मंहत राजू दास, महंत रामदास, विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, साहित्यकार एवं शिक्षाविद्व डॉ0 प्रेमभूषण गोयल, जिलाधिकारी नीतीश कुमार, एसएसपी, एसपी सिटी अयोध्या, वित्त अधिकारी पूर्णेन्दु शुक्ला, मुख्य नियंता प्रो0 अजय प्रताप सिंह, प्रो0 चयन कुमार मिश्र, प्रो0 आशुतोष सिन्हा, प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह, प्रो0 नीलम पाठक, प्रो0 जसवंत सिंह, प्रो0 अनुपम श्रीवास्तव, प्रो0 एसके रायजादा, प्रो. एमपी सिंह, प्रो0 एनके तिवारी, प्रो0 फारूख जमाल, प्रो0 के0के वर्मा, प्रो0 आरके तिवारी, प्रो0 शैलेन्द्र कुमार, प्रो0 शैलेन्द्र वर्मा, प्रो0 तुहिना वर्मा, प्रो0 अनूप कुमार, सहायक कुलसचिव डॉ0 रीमा श्रीवास्तव, मो0 सहील प्रो0 गंगाराम मिश्र, प्रो0 अशोक राय सहित बड़ी संख्या में सदस्य छात्र-छात्राएं, शिक्षक एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष

संजीव-नी।
संजीव-नीl
संजीव-नी।
संजीव-नी।
संजीवनी।