बच्चों से पुस्तक पढ़वा कर डीएम ने जाना बेसिक शिक्षा का स्तर

अंग्रेजी की पुस्तकें पढ़वाई और गणित के समीकरण और सवाल भी करवाये हल 

बच्चों से पुस्तक पढ़वा कर डीएम ने जाना बेसिक शिक्षा का स्तर

आंगनबाड़ी, पंचायत भवन का भी किया अवलोकन, फर्नीचर मिला खराब तो प्रधान को बनवाने को निर्देश

स्वतंत्र प्रभात

राघवेंद्र मल्ल 

पडरौना, कुशीनगर। जिलाधिकारी रमेश रंजन पूरी फार्म में हैं। विकास परक योजनाओं के नियमित निरीक्षण में परिषदीय विद्यालयों का हाल जानने निकले डीएम ने बच्चों से क्लास में अंग्रेजी व हिंदी की पुस्तकें पढ़वाई और गणित के समीकरण व सवाल हल करवाया। वहीं बच्चों को नियमित स्कूल आने के लिए प्रेरित भी किया। साथ ही पुस्तक वितरण व यूनिफार्म के बारे में जानकारी ली।

जिलाधिकारी रमेश रंजन पडरौना तहसील के कम्पोजिट विद्यालय सेमरा हरदो में लाव लश्कर के साथ पहुंचे तो परिसर स्थित आंगनवाड़ी केंद्र तथा निर्माणाधीन पंचायत भवन का निरीक्षण भी किया। विद्यालय पहुंचे डीएम ने कक्षा 04, कक्षा 06 और कक्षा 08 के कमरों में गये। वहां मौजूद छात्र व छा़़़त्राओं से हिंदी और अंग्रेजी की पुस्तकें पढ़वाई और गणित के समीकरण और सवाल भी हल करवाये। उपस्थित छात्र-छात्राओं से जिलाधिकारी ने पूछा कि विद्यालय नियमित आते हो कि नहीं, किस खेल में रुचि है, किताबों और ड्रेस की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी ली। जिलाधिकारी ने स्मार्ट क्लास का भी निरीक्षण किया। कुछ बच्चों के ड्रेस में नहीं होने का कारण पूछा तथा उन्हें ड्रेस की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी कमलेन्द्र कुशवाहा को निर्देशित किया। कक्षा 04 के निरीक्षण के दौरान फर्नीचर नहीं होने पर डीएम ने ग्राम प्रधान प्रतिनिधि मोहन प्रसाद खरवार को फर्नीचर की उपलब्धता के लिए निर्देशित किया। यहां के प्रधानाध्यापक निसार अहमद ने पूछे जाने पर बताया कि विद्यालय में कुछ 484 बच्चों का पंजीयन है तथा यहां 8 शिक्षकों की तैनाती है। विद्यालय के प्रधानाध्यापक से जिलाधिकारी ने मघ्याहन भोजन के बारे में भी जानकारी ली। डीएम ने विद्यालय परिसर स्थित आंगनवाड़ी केंद्र का भी निरीक्षण किया। वहां उपस्थित बच्चों से पढ़ाई के बारे में पूछा तथा मौजूद आंगनवाड़ी कार्यकत्राओं से बच्चों के लिए खिलौने के बारे में भी पूछा, वजन मशीन को भी देखा।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष