पॉलीथीन, पुराने कपड़े, प्लास्टिक क्रॉकरी के रूप में घाटों पर टनों कचरा छोड़ गए श्रद्धालु

पॉलीथीन, पुराने कपड़े, प्लास्टिक क्रॉकरी के रूप में घाटों पर टनों कचरा छोड़ गए श्रद्धालु

पॉलीथीन, पुराने कपड़े, प्लास्टिक क्रॉकरी के रूप में घाटों पर टनों कचरा छोड़ गए श्रद्धालु


हरिद्वार। 

सोमवती स्नान के लिए देष भर से आए लाखों श्रद्धालु स्नान के पश्चात गंगा घाटों पर पॉलिथीन, पुराने कपड़े, प्लास्टिक क्राकरी, आदि के रूप में भारी मात्रा में गंदगी छोड़ गए। स्नानार्थियों द्वारा छोड़े गए टनों कचरे को साफ करने में नगर निगम कर्मचारियों को भारी मषक्कत करनी पड़ रही है। गंगा स्नान व अन्य धार्मिक कार्यो के लिए हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं द्वारा पॉलिथीन का इस्तेमाल किया जाना बड़ी समस्या बनता जा रहा है। श्रद्धालु गंगा घाटों पर बैठने व भोजन आदि के लिए प्लास्टिक की चटाई व क्राकरी का इस्तेमाल करने के बाद घाटों पर ही छोड़कर चले जाते हैं। 

सोमवती अमावस्या स्नान पर्व के बाद हरकी पैड़ी समेत तमाम घाटों पर प्लास्टिक के रूप में कई कुंतल कचरा जमा हो गया है। गंदगी के ढेर घाटों पर आम देखे जा सकते हैं। कचरा साफ करने के लिए नगर निगम को वृहद स्तर पर सफाई अभियान चलाना पड़ा। गिरवर नाथ जनकल्याण ट्रस्ट के अध्यक्ष कमल खड़का ने कहा कि श्रद्धालुओं द्वारा पॉलीथीन का इस्तेमाल किए जाने से गंगा घाटों पर गंदगी पसरी हुई है। श्रद्धालुओं द्वारा प्लास्टिक के बर्तन, पत्तल, पॉलीथीन, पुराने कपड़े गंगा घाटों पर ही छोड़ दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट द्वारा गंगा घाटों पर सफाई अभियान चलाया जाएगा। साथ ही पॉलिथीन के इस्तेमाल के प्रति लोगों को सचेत भी किया जाएगा। 

स्थानीय व्यापारियों को अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए सफाई व्यवस्था में सहयोग प्रदान करना चाहिए। गंगा हमारी आस्था का केंद्र बिंदु है। इसलिए गंगा घाटों को गंदगी साफ सुथरा रखना सभी की जिम्मेदारी है। कमल खड़का ने कहा कि जिला प्रशासन को वृहद स्तर पर सफाई व्यवस्था करने के साथ इस संबंध में श्रद्धालुओं को जागरूक भी करना चाहिए। 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel