न्याय पाने के लिए दर-दर भटक रहे फरियादी

न्याय पाने के लिए दर-दर भटक रहे फरियादी

न्याय पाने के लिए दर-दर भटक रहे फरियादी


एसआई की घूसखोरी का ऑडियो हो रहा वायरल

खीरों, रायबरेली


खीरों पुलिस के फरियादियों के प्रति न्याय संगत न होने से यह सवाल उठता है कि योगी सरकार में पुलिस को अपना कार्य, व्यवहार सुधारने के लिए लाख नसीहत में दी जा रही हों। पर खीरों पुलिस की कार्यशैली और रवैए में कोई सुधार होता नहीं दिख रहा है। खीरों थाने में इससे पहले भी कई बार पुलिस पर घूस खाने और भ्रष्टाचार से संबंधित मामले उठ चुके हैं। पुलिस की घूसखोरी का ऐसा ही एक मामला फिर सामने आया है। 

अधिकांश बड़े मामलों में खीरों थाने में एफआईआर दर्ज न किए जाने का ढर्रा पुराना हो चुका है। जिससे फरियादियों को पुलिस कप्तान की चौखट पर जाकर गिड़गिड़ाना पड़ता है। छेड़छाड़ व रेप जैसे संगीन मामलों को पुलिस दबाने का या फिर धाराएं बदलने का प्रयास करती है। न्यायालय के आदेश के बाद ही ऐसे मामलों में मुकदमा दर्ज होता है। 

क्षेत्र के अंतर्गत कस्बा खीरों निवासी अनुसूचित जाति के एक व्यक्ति ने थाना क्षेत्र कोतवाली लालगंज के अंतर्गत कस्बा लालगंज निवासी एक युवक पर अपने घर में घुसकर उसकी पत्नी के साथ मारपीट करने और रुपयों से भरा बैग चोरी कर ले जाने का आरोप लगाते हुए खीरों पुलिस को घटना की तहरीर दिया। पीड़ित का आरोप है कि हल्का नंबर 2 में व्यवहारिक प्रशिक्षण के लिए तैनात किए गए एक एसआई ने उससे कार्यवाही करने के नाम पर पांच हजार रूपये घूस खा लिया। लगभग 2 हफ्ते तक कोई कार्यवाही ना किए जाने पर पीड़ित ने घटना की शिकायत पुलिस कप्तान से किया। मामले में पीड़ित व एसआई के बीच हुई बातचीत का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

न्याय पाने के लिए दर-दर भटक रहे फरियादी

 थाना क्षेत्र के कस्बा खीरों निवासी हीरालाल पुत्र लालू धोबी ने खीरों पुलिस को घटना की तहरीर देते हुए आरोप लगाया था कि बीते 24 मार्च को दोपहर के समय थाना कोतवाली लालगंज के कस्बा लालगंज निवासी टीटू पुत्र नान्हा उसके घर में चोरी करने की नियत से घुस गया। तभी उसकी पत्नी फूल कली ने चोर को देख लिया। जिसके बाद वह हमलावर होते हुए उसके साथ मारपीट करने लगा। बीस हजार रूपये का भरा बैग लेकर भाग निकला। 

पीड़ित हीरालाल का आरोप है कि पुलिस को दी गई तहरीर के लगभग 2 हफ्ते बीतने पर भी जब कोई कार्यवाही नहीं की गई तो वह अपनी फरियाद लेकर पुलिस कप्तान के पास पहुंचा। पीड़ित ने यह भी आरोप लगाया है कि खीरों थाने के हल्का नंबर 2 में व्यवहारिक प्रशिक्षण हेतु तैनाती पाए हल्का एसआई दिलीप कुमार शर्मा ने मामले में आरोपी के खिलाफ कार्रवाई करने के बदले उससे पांच हजार रूपये घूस खा लिया। 

घूस खाने के बाद जब पीड़ित ने एसआई से फोन पर बात किया तो एसआई ने उस चोर को अपना मित्र बताते हुए उसे समझा-बुझाकर मामला शांत करा देने की बात कही। पीड़ित और एसआई के बीच हुई इस मामले की बातचीत का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। एसएचओ बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि घटना की तहरीर मिली है। ट्रेनी एसआई द्वारा रुपयों के लेन-देन का मामला संज्ञान में नहीं है।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel