EVM साफ्टवेयर इंजीनियर मशीन के साथ छेड़छाड़ करते हुए पकड़ाया, स्ट्रांग रूम परिसर में मची अफरातफरी

EVM साफ्टवेयर इंजीनियर मशीन के साथ छेड़छाड़ करते हुए पकड़ाया, स्ट्रांग रूम परिसर में मची अफरातफरी

EVM साफ्टवेयर इंजीनियर मशीन के साथ छेड़छाड़ करते हुए पकड़ाया, स्ट्रांग रूम परिसर में मची अफरातफरी


बस्ती। 

बस्ती जिले में एक अनोखा  घटना जिले के स्ट्रांग रूम की है जहां वोटिंग के बाद ईवीएम रखी है। बस्ती जिले में ईवीएम की सुरक्षा राम भरोसे हैं। मतदान के बाद वोटिंग मशीनों को मण्डी समिति में रखा गया है।जहा सुरक्षा बेहद घटिया स्तर की है। देर रात मिली ताजा जानकारी के अनुसार मण्डी समिति में प्रत्याशियों और समर्थकों की भारी भीड़ इकट्ठा हैं।

वायरल वीडियो एवं सूत्रों की माने तो मौके पर एक साफ्टवेयर इंजीनियर भी पकड़ा गया है। आशंका व्यक्त की जा रही है कि वह ईवीएम के साथ छेड़छाड़ करने आया था। कुछ नाराज लोग उस पर हमलावर भी हुये, लेकिन प्रत्याशियों के कहने पर उसे लोगों ने गाड़ी में बैठा लिया। 

सपा प्रत्याशी महेन्द्रनाथ यादव ने कहा फार्म 17 सी का स्ट्रांग रूम के बाहर पाया जाना बेहद गंभीर मामला है। उन्होने कहा ईवीएम मशीनों को सील करते समय फार्म 17 सी मांगा गया तो प्रशासन ने एजेण्टों को नही दिया। कहा सभी मशीनों के साथ फार्म 17 सी संलग्न है।

यदि मशीनों के साथ फार्म 17 सी संलग्न है तो बाहर फेंका गया फार्म 17 सी कहां से आया ? सपा नेताओं के साथ ही दूसरे दल के प्रत्याशी भी मामले को लेकर काफी गुस्से में हैं। शनिवार का दिन प्रशासन और पर्यवेक्षक के लिये चुनौतीपूर्ण हो सकता है। चुनाव आयोग तक बड़ी संख्या में शिकायतें पहुंच चुकी हैं।

 कुछ अधिकारियों पर गाज गिरना तय है। फिलहाल मामला तनावपूर्ण है और जिला प्रशासन तथा चुनाव पर्यवेक्षक जनता और प्रत्याशियों का विश्वास जीतने में पुरी तरह नाकाम रहे हैं। हालत ऐसे ही रहे तो निष्पक्ष मतगणना के आसार बहुत कम हैं। 

वही बस्ती जिला अधिकारी सौम्या अग्रवाल का कहना है ईवीएम वीवीपट मतदान अभिकर्ताओं के सामने ही सील पैक किया गया है जो परची मिली है वह पहले की है और स्ट्रांग रूम की निगरानी तीन लेयर सुरक्षा घरों के माध्यम से किया जा रहा है जहां सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए जो पर्चियां मिली हैं उनकी जांच कराई जा रही है।
 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष