सिकरीगंज में स्वर्ण ब्यवसाई के साथ छिनैती , तीन बार हुआ वारदात, खामोश क्यो  हुई स्थानीय पुलिस ,

दहशत में सिकरीगंज के स्वर्ण ब्यापारी, पुलिस गम्भीर नही ! कैसे रुके अपराध,

 सिकरीगंज में स्वर्ण ब्यवसाई के साथ छिनैती , तीन बार हुआ वारदात, खामोश क्यो  हुई  स्थानीय पुलिस ,

ब्यूरो/शत्रुघ्न मणि त्रिपाठी

 गोरखपुर । उत्तर प्रदेश सरकार जहां अपराध व अपराधियो पर नकेल कसने के लिए पूरी ताकत लगा दी है ,लेकिन अपराधी नए अंदाज में अपराध कर पुलिस को चकमा दे रहे है, स्थानीय पुलिस मामले पर चुप्पी साधे हुए है । ताजा मामला सिकरीगंज थानां क्षेत्र के कुई बाजार स्थित स्वर्ण ब्यवसाई के दुकान से टप्पेबाजों ने फिल्मी स्टाइल में छिनैती कर फरार गए ,पीड़ित ने तहरीर दिया ,पुलिस ने अज्ञात पर चोरी का मुकदमा दर्ज दिया ।Screenshot_20240227_101404_Chrome

पीड़ित ब्यवसाई के मुताबीत घटना के दो  दिन बाद फिर नए अंदाज में टप्पेबाज सोना बंधक रखने के नियत दो अंजान ब्यक्ति आये, दुकानदार को शक हुआ और थाने को फोन कर पुलिस बुला लिया,जिसमे दोनो पुलिस को देखते ही छिनैती का सोना देना का दुहाई भी देने लगे, पुलिस उनको थानां ले गई लेकिन पुलिस द्वारा कोई ठोस कदम  जालसाजों पर नही उठाया गया ।

जिसमें सिकरीगंज के स्वर्ण ब्यवसाई में दहशत है, ब्यापारी ने मीडिया से फोन के जरिये बताया तीसरी बार घटना हुआ ,अब कुछ भी हो सकता है , स्थानीय पुलिस ने अपना हाथ खड़ा कर दिया है । 

मामला सिकरीगंज थानां क्षेत्र कुई बाजार का है । जहां बलराम बर्मा पुत्र स्वगीय राजकुमार बर्मा सोने की दुकान चलाता है , उनकी दुकान पर 21 फरवरी के 2 बजे के लगभग दो ब्यक्ति सोने ओम लाकेट लेने आते है , ब्यापारी एक लाकेट दिखता है उसी दौरान दूसरा और दिखाने को बोलता ,ब्यापारी जब अपनी लाकेट की पोटरी निकलता उसी दौरान उलझा कर एक तप्पेबाज सोने के लाकेट का पोटरी छीन कर भाग जाता । पीड़ित थाना पर शिकायत कर आपबीती बता कर तहरीर देता है ।पुलिस  अज्ञात पर चोरी का मुकदमा दर्ज के शांत हो जाती है ।

 घटना के कुछ दिन बाद नए अंदाज में फिर दो टप्पेबाज बलराम बर्मा के दुकान आते और सोना बंधक रखने को कहते है । ब्यापारी आधार कार्ड मांगता तो दोनों उससे उलझ जाते है ,ब्यापारी को शक हुआ तो पुलिस को फोन करके बुला लिया , पुलिस मौके पर आती तो पुलिस के भय से दोनो टप्पेबाज छिनैती के गोल्ड वापस करने की बात करने लगते है ,लेकिन पुलिस दोनों को थानां ले जाती फिर कहानी ठंढे बस्ते में बन्द हो जाती ,पीड़ित ब्यापारी दहशत भरी जिंदगी जीने के लिए आज मजबूर हो गए है । ऐसे में ब्यापारी कैसे सुरक्षित हो सवाल खड़ा हो गया है , जो चर्चा का विषय बन चुका है ।

उक्त मामले पर सीओ खजनी ओंकार दत्त त्रिपाठी ने बताया ब्यापारी द्वारा पकड़े गए दो ब्यक्ति से पूछताछ चल रही है , उनके निशानदेई पर तलाश जारी है ,ज्यो ही कोई सुराग मिलता है,पकड़ कर खुलासा कर दिया जाएगा । फिरहाल अभी दोनो कुछ बता नही रहे है ।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel