मुख्य विकास अधिकारी पर भारी ग्राम पंचायत अधिकारी

मुख्य विकास अधिकारी पर भारी ग्राम पंचायत अधिकारी

स्वतंत्र प्रभात
अंबेडकरनगर। जिले के शासनादेश एवं मुख्य विकास अधिकारी के स्पष्ट आदेश के बाद भी ग्राम पंचायत खरुवांव के सचिव कमलेश गांव में नियुक्त केयर टेकर को मानदेय नहीं दिया और मुख्य विकास अधिकारी और शासनादेश का खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे है। तीन साल से मानदेय न मिलने की शिकायत जब से केयर टेकर ने जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी से की है तभी से ग्राम पंचायत सचिव कमलेश केयर टेकर को शिकायत पत्र वापस लेने का दबाव बना रहे थे लेकिन जब केयर टेकर ने जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी को अवगत कराया तो खुद मुख्य विकास अधिकारी जहांगीरगंज ब्लाक मुख्यालय पर पहुंचकर स्पष्ट आदेश दिया कि शासनादेश एवं मेरे आदेश का पालन सुनिश्चित करें किसी भी केयर टेकर को हटाया नहीं जायेगा जो शुरुआत में नियुक्त किए गए हैं वही काम करेंगी।
 
बैठक में खण्ड विकास अधिकारी अनिल कुमार कुशवाहा, सहायक विकास अधिकारी पंचायत योगेन्द्रनाथ सिंह, एडीओ आईएसबी पीडी राय, बीएमएम कृष्णा चौहान, बृजलाल, एवं ग्राम पंचायत के सभी सचिव मौजूद थे। मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देशित करते हुए कहा था कि माननीय मुख्यमंत्री जी एवं शासनादेश का पूरी तरह अनुपालन सुनिश्चित हो किसी भी दशा में समूह द्वारा नियुक्त केयर टेकर के अतरिक्त कोई अन्य कार्य नहीं करेगा न तो केयर टेकर के मानदेय निकालने में दिक्कत पैदा करेंगे और यदि कहीं केयर टेकर का मानदेय निकाल कर बंदरबांट कर लिया गया है तो उसे रिकवर कर केयर टेकर को मानदेय देना सुनिश्चित करें।
 
किसी भी समूह या कर्मचारी द्वारा यदि शासनादेश का उलंघन किया गया तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी। किसी भी केयर टेकर को ग्राम पंचायत सचिव,प्रधान बिना मेरी अनुमति लिए उसे हटाया नही जायेगा। इस दौरान ग्राम पंचायत खरूवांव की केयर टेकर रीता निषाद को सचिव द्वारा पद से हटाए जाने की नोटिस जारी करने पर मुख्य विकास अधिकारी ने केयर टेकर को मानदेय देना सुनिश्चित करने को कहा था और कहा कि बिना मेरी अनुमति लिए किसी भी केयर टेकर को हटाया नही जायेगा।
 
मुख्य विकास अधिकारी के स्पष्ट आदेश एवं शासनादेश को सचिव कमलेश कुमार ठेंगा दिखाते हुए केयर टेकर को मानदेय नहीं दिया और जब ग्राम पंचायत सचिव से इस मामले में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जांच चल रही है और उच्च अधिकारियों का जो आदेश होगा उसका अनुपालन किया जायेगा। केयर टेकर ने बताया कि जब हमने मानदेय के लिए फोन किया तो सचिव बार बार एक ही बात कर रहे हैं कि तुमने मानदेय न मिलने की शिकायत क्यों किया जब हम कह रहे थे कि शिकायत पत्र वापस ले लो तो क्यों नहीं उठा लिया तुमने काम नहीं किया है इसकी ऑडियो मौजूद है
 
जिसमें सचिव बार बार कह रहे हैं कि मैंने कहा था कि तुम चुपचाप काम करो और तुम्हारा सारा मानदेय मै इकट्ठे निकाल कर दे दूंगा जबकि महिला केयर टेकर बार बार कह रही है कि साहब आपने हमारे नम्बर को व्हाट्सेप से ब्लाक कर दिया है और जो समूह बनाए हैं उसमें हमारा नम्बर फीड नही किया है तो हम अपनी फोटो वीडियो जो केयर टेकर महिलाओं का ग्रुप बना है उसमे भेजते हैं आप सीसीटीवी कैमरा देख लीजिए और शौचालय के अगल बगल रहने वाले एवं समूह की महिलाओं से पूछ सकते हैं लेकिन सचिव महिला की कोई बात सुनने को तैयार नहीं हैं।
 
 ग्राम पंचायत सचिव शासनादेश/ मुख्य विकास अधिकारी के आदेश पर भारी है और मुख्य विकास अधिकारी के स्पष्ट आदेश दिए जाने पर भी केयर टेकर को मानदेय जांच चल रही कहकर अभी तक नहीं दिए हैं। ग्राम पंचायत सचिव कमलेश कुमार शासनादेश एवं मुख्य विकास अधिकारी द्वारा जारी आदेश पत्रांक 477 दिनांक 12/10/2023 को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं और एक ग्राम पंचायत सचिव मुख्य विकास अधिकारी के आदेश को चुनौती दे रहे हैं।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel