एचडब्ल्यूसी सेंटर में पहली बार मनाया गया विश्व हृदय दिवस

एचडब्ल्यूसी सेंटर में पहली बार मनाया गया विश्व हृदय दिवस

-हस्ताक्षर, खेलकूद, पोस्टर प्रतियोगिताओं के हुए आयोजन  


महोबा । 

आयुष्मान भारत हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों (एचडब्ल्यूसी) पर पहली बार विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया गया। इसके अलावा स्कूलों में खेलकूद, पोस्टर प्रतियोगिता एवं हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। हृदय संबंधी रोगों (सीवीडी) की रोकथाम को बढ़ावा देने और ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्वस्थ जीवन शैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सरकार ने अब इस दिन को हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों के वार्षिक स्वास्थ्य कैलेंडर में शामिल कर लिया है। इस साल की थीम श्यूज हार्ट टू कनेक्टश् है।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एमके सिन्हा ने कहा कि गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) से होने वाली मौतों की संख्या में एक बड़ा हिस्सा अभी भी हृदय संबंधी रोगों का है। ऐसे में हैल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर यह आयोजन ग्रामीण और शहरी लोगों के बीच हृदय संबंधी रोगों और इनके लक्षणों और बचाव के उपायों के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए एक आदर्श मंच प्रदान करेगा। उन्होंने कहा है कि हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर एक दिवसीय हृदय शिविर में योग और प्राणायाम के साथ लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इसमें उनके ब्लड प्रैशर, ब्लड शुगर, और हीमोग्लोबिन की जांच के साथ-साथ बीएमआई भी लिया गया। 

शहर के एसवीएम इंटर कालेज और शिशु शिक्षा निकेतन इंटर कालेज में खेलकूद व पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। छात्र-छात्राओं को शपथ दिलाई गई। आरबीएसके डीईआईसी मैनेजर डा. अंबुज गुप्ता ने कहा कि पौष्टिक आहार के साथ नियमित व्यायाम करें। ध्रुमपान बिल्कुल न करें। अगर हृदय स्वस्थ रहेगा तभी हमारा शरीर भी स्वस्थ होगा। इस मौके पर प्रधानाचार्य जयनारायण तिवारी व मान सिंह निराला, काउंसलर रजनी चैरसिया व राहुल धुरिया सहित स्टाफ उपस्थित रहा। 

इसी प्रकार जैतपुर ब्लाक में आरबीएसके टीम ने सतारी गांव स्थित जुनियर हाईस्कूल में बच्चों को स्वस्थ्य ह्दय का संकल्प दिलाया गया। साथ ही उन्हें पोषणयुक्त भोजन लेने को कहा। डा. आशुतोष सोनी, मधुबाला सक्सेना, महेंद्र कुमार, स्कूल प्रधानाध्यापक शीतल प्रसाद, अवधेश कुमार सहित स्कूल स्टाफ मौजूद रहा।
 

Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel