दिल्ली के तमाम नर्सिंग होम्स की SIT जांच शुरू, ACB दर्ज करेगी एफआईआर, मचा हडकंप,

दिल्ली के तमाम नर्सिंग होम्स की SIT जांच शुरू, ACB दर्ज करेगी एफआईआर, मचा हडकंप,

दिल्ली। राजधानी दिल्ली के निजी,अस्पताल, नर्सिंग होम्स में कायदे-नियमो के उल्लघंन मामले में  एंटी करप्शन ब्रांच(एसीबी) ने एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इसके अलावा  जांच के लिए  स्पेशल टॉस्क फोर्स  बनाई  है। इस औचक कारवाई से दिल्ली के निजी अस्पताल, नर्सिंग होम्स में हड़कंप  मच गया है। दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश भी दिए हैं। उल्लेखनीय है कि इस औचक कारवाई के पीछे ,25  मई की रात विवेक विहार स्थित बेबी केयर न्यू बोर्न चाइल्ड अस्पताल में ऑक्सीजन सिलिंडर फटने से लगी आग में वहां एडमिट 12 नवजात बच्चे लपेटे में आ गए थे।इनमें से 7 नवजात शिशुओ की जलकर मौके पर ही मौत हो गई थी। 

जांच में पाया कि इस कथित निजी अस्पताल का रजिस्ट्रेशन तक रिन्यू नहीं करवाया गया था। जिसकी अवधि 31 मार्च  तक ही थी।फायर , NOC  तक नहीं था। इसके अलावा चाइल्ड केयर सेंटर में कुल 5 बच्चो तक बेड सेक्शन थे। जहां 12 बेडों पर बच्चों को एडमिट किया गया था। वहीं एमबीबीएस एमडी डाॅक्टर की जगह बीएएमएस डिग्रीधारी कथित डाॅक्टर तैनात थे। अस्पताल में दो रास्तों की जगह आने जाने के लिए सिर्फ एक ही घुमावदर सीढी थी। इसके अलावा अस्पताल के सबसे नीचे भाग में ऑक्सीजन सिलिंडर भरने का खतरनाक काम किया जा रहा था। यहां बडे सिलिंडर से छोटे सिलिंडर में आक्सीजन भरने का काम किया जाता था।। आक्सीजन  भरते वक्त ही छोटा सिलिंडर राकेट की तरह उड कर अस्पताल की पहली मंजिल के अंदर जा घुसा और फट गया।

Screenshot_20240601_160635_YouTube

इससे वार्ड में एडमिट नवजात शिशुओ की आग में जलकर मौत हो गई थी। एंटी करप्शन ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक विवेक विहार के इस अस्पताल अग्निकांड की वजह से यमुनापार से जांच शुरू की गई है। गुरूवार 30 मई को 20 नर्सिंग होम्स और शुक्रवार 31मई शाम तक 15 निजी अस्पताल/ नर्सिंग होम्स को बारीकी से खंगाला गया। इस जांच में कई खामियां मिली। ये नर्सिंग होम्स/ अस्पताल में डीजीएचएस डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ हैल्थ सर्विसेज से लाईसेंस के नियमों का घोर उल्लंघन करते पाए गये। कुछ में लाईसेंस में दर्ज से ज्यादा बेड मिले। कुछ ने अभी लाईसेंस के लिए अप्लाई किया हुआ है। तो वहीं कुछ का लाईसेंस खत्म हो चुका है। नवीकरण के लिए अप्लाई तक नहीं किया गया था। काफी तो  रजिस्ट्रेशन लाईसेंस के बगैर ही  काम करते पाए गए। सूत्रो के मुताबिक जांच का दायरा दिल्ली का पूरा इलाका है।इसमें निजी अस्पताल/नर्सिंग होम्स की जांच की जानी है। लाईसेंस और बगैर लाईसेंस को चैक करना प्राथमिकता है।

Screenshot_20240528_175105_WhatsApp

इन अस्पताल/नर्सिंग होम्स में क्या -क्या किन -किन विभागों की मिलीभगत मिलती है,इसका खुलासा किया जाएगा। जांच का दायरा फिलहाल दिल्ली सरकार का स्वास्थ्य मंत्रालय, (डीजीएचएस)  डायरेक्टर जनरल हैल्थ सर्विसेज और उसके अधिकारी रडार पर है।इसके अलावा अन्य दूसरे विभागों और उनके अफसरों की संलिप्तता पाई जाती है तो उन सबके खिलाफ सख्त कारवाई की जाएगी। बता दें कि विवेक विहार के  बेबी केयर न्यू बोर्न चाइल्ड अस्पताल में आग से 7 नवजात बच्चो की जलकर मौत के मामले को बेहद गंभीर मानते हुए  दिल्ली के एलजी विनय सेक्सेना ने इसके जांच के आदेश दिए हैं।अब देखना यह है कि इन जांच कारवाई को कितनी  इमानदारी से किया जाता है। यह अजगरी सवाल लोगों के जहन में बस गया है।

About The Author

Post Comment

Comment List

अंतर्राष्ट्रीय

तालिबान ने ये ट्रक इस्लामाबाद के रास्ते भारत भेज दिया, जानकारी पाते ही पकिस्तान में मची खलबली  तालिबान ने ये ट्रक इस्लामाबाद के रास्ते भारत भेज दिया, जानकारी पाते ही पकिस्तान में मची खलबली 
International Desk एक तरफ भारत का डंका पश्चिम से लेकर अमेरिका तक बज रहा। दूसरी तरफ पाकिस्तान को भारत ने...

Online Channel

साहित्य ज्योतिष