विश्व हिन्दू परिषद का उद्देश्य समाज को समरस बनाना: महेन्द्र सिंह राना

विश्व-हिन्दू-परिषद-का-उद्देश्य-समाज-को-समरस-बनाना:-महेन्द्र-सिंह-राना

स्वतंत्र प्रभात

शाहाबाद(हरदोई)-विश्व हिन्दू परिषद के प्रखण्ड अध्यक्ष महेन्द्र सिंह राना ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद का उद्देश्य जाति, धर्म, संप्रदाय के भेद से मुक्त होकर समाज को समरस बनाना है।उन्होंने कहा कि परिषद का प्रथम उद्देश्य संतों द्वारा उद्घोषित राष्ट्रीयता का बोध, संस्कार व जीवन वृत्ति के निरूपण ही मानक स्वीकार करना है। दूसरा उद्देश्य जाति, धर्म, संप्रदाय के भेद से मुक्तहोकर समाज को समरस बनाना है।

तीसरा उद्देश्य विश्व के समस्त ¨हिन्दू मान बिंदुओं व हिंदुओं की सनातन संस्कृति की सुरक्षा तथा संस्कार की ज्योति को निरंतर जलाये रखना तथा चौथा उद्देश्य कथित मुस्लिमों एवं ईसाइयों द्वारा धर्मातरित हिंदुओं को पुन: घर वापसी कराना है।श्री राना के अनुसार विश्व हिन्दू परिषद प्रखंड शाहाबाद की 11 ग्राम समाज की कमेटिया गठित की गई।

विश्व हिन्दू परिषद प्रखंड अध्यक्ष महेन्द्र सिंह राना ने वासित नगर, मंझा,गनुआपुर, नरहाई, भदासी, हसुआ, हरदासपुर, पिढाता, कालागाढा, राहीबारी, की कमेटियो का गठन किया आैर सर्व प्रथम सभी विश्व हिन्दू के पदाधिकारियो को  कोरोना जैसी महामारी के बचाब के लिये समझाया संगठन के जिला धर्माचार्य के प्रमुख विमल बजरंगी जिला संगठन मंत्री महेन्द्र व सह मंत्री अशोक कुमार गुप्ता वह सभी प्रखंड के पदाधिकारी व ग्राम समाज कमेटी के सभी पदाधिकारी मैजूद रहे।