आरआरपीजी में हिन्दी दिवस पर हुआ वर्चुअल कार्यक्रम

अमेठी। 14 सितम्बर, रणवीर रणंजय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, अमेठी में हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी विभाग द्वारा आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए विशिष्ट अतिथि राजकीय महाविद्यालय उन्नाव की प्राचार्या डॉ0 भारती सिंह ने कहा कि मातृ भाषा में शिक्षा देने से शिक्षा के सभी उद्देश्यों की पूर्ति होगी। हिन्दी के विकास से हमारी संस्कृति सशक्त होगी। मुख्य अतिथि साहित्यकार एवं फिल्म समीक्षक कुमार विमलेन्दु सिंह ने कहा कि हिन्दी फिल्मों ने हिन्दी के विकास में सराहनीय योगदान दिया है। स्वागत करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ0 त्रिवेणी सिंह ने कहा कि हिन्दी भाषा ही नहीं भावों की अभिव्यक्ति का माध्यम है। नई शिक्षा नीति में मातृ भाषा में शिक्षा देने की व्यवस्था की गयी है।

मातृ भाषा में शिक्षा से छात्रों में सृजन की क्षमता का विकास होता है। हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ0 सुरेन्द्र प्रताप यादव ने कहा कि अंग्रेजी को सामन्तवादी एवं पूँजीवादी सोच वालों ने बढ़ावा दिया है। हिन्दी का पेट बड़ा होना चाहिए जिससे वह असानी से अन्य भारतीय भाषाओं को अपने अन्दर समेट सके। कार्यक्रम को डॉ0 शैलेन्द्र नाथ मिश्र, डॉ0 राम सुन्दर यादव, डॉ0 दिलीप सिंह आदि ने सम्बोधित किया। वर्चुअल कार्यक्रम का संचालन विवेक कुमार सिंह ने किया। कार्यक्रम में डॉ0 राधेश्याम प्रसाद, डॉ0 सीमा सिंह, डॉ0 अजय कुमार सिंह, डॉ0 सुनील दत्त सिंह, डॉ0 दुष्यन्त प्रताप सिंह आदि शिक्षक उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here