उत्तराखंड क्रांति दल ने उत्तराखंड पेयजल निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक भजन सिंह पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

उत्तराखंड क्रांति दल ने उत्तराखंड पेयजल निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक भजन सिंह पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप और कहा की अपने पद पर रहकर जमकर भ्रष्टाचार किया है! इनके द्वारा राज्य में भ्रष्टाचार कर आर्थिक अपराध कर अपने लिए अकूत संपत्ति अर्जित कर ली गई है यह बात आज उत्तराखंड क्रांति दल के गढ़वाल मंडल प्रभारी एवं संरक्षक त्रिवेंद्र सिंह पंवार ने पत्रकार वार्ता में कही।

उत्तराखंड क्रांति दल ने उत्तराखंड पेयजल निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक भजन सिंह पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

स्वतंत्र प्रभात

देहरादून ब्यूरो:उत्तराखंड क्रांति दल ने उत्तराखंड पेयजल निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक भजन सिंह पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप और कहा की अपने पद पर रहकर जमकर भ्रष्टाचार किया है! इनके द्वारा राज्य में भ्रष्टाचार कर आर्थिक अपराध कर अपने लिए अकूत संपत्ति अर्जित कर ली गई है यह बात आज उत्तराखंड क्रांति दल के गढ़वाल मंडल प्रभारी एवं संरक्षक त्रिवेंद्र सिंह पंवार ने पत्रकार वार्ता में कही। आज उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से मुखातिब हुए।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड क्रांति दल को प्राप्त साक्ष्यों का अवलोकन करने से प्रथम दृष्टया यह उजागर हो गया है कि भजन सिंह के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की है। भजन सिंह का भ्रष्टाचार करने के लिए एक बड़ा नेटवर्क है।इनके काले कारनामे को उत्तराखंड क्रांति दल आपके माध्यम से जनता के बीच रख रहा है। भजन सिंह द्वारा अपनी पत्नी एवं बेटे के नाम से क्रमश: silicon infotech Private limited एव ज्योति सोलर पावर जेनरेशन प्राइवेट लिमिटेड फर्म मैं खोली गई हैं, साथ ही अपने खातों में पैसे को ट्रांसफर करने के लिए बेनामी फर्म खोलकर अपनी पत्नी के खाते में लाखों रुपए जमा कराए गए हैं।इनकी पत्नी के खाते में लगभग एक करोड़ रूपया जमा किया गया है।जबकि जिस फर्म द्वारा यह पैसे का लेनदेन किया गया है वह पूर्णता फर्जी फर्म है। भजन सिंह ने अपने चहेतों को निविदा आवंटन करने के लिए माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा जारी गाइड लाइनओं का भी उल्लंघन करते हुए मसूरी में 250 करोड़ के कार्यों का आवंटन अपने चहेतों को कर दिया।साथ ही 2005 एवं 2007 में इनके द्वारा भर्ती घोटाला किया गया है ,जिसमें राज्य के बाहरी व्यक्तियों को आरक्षण का लाभ देकर उनको भर्ती किया गया है एवं राज्य के अंदर आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों वंचित किया गया जो क्षमा करने योग्य अपराध नहीं है ।इनके द्वारा महत्वकांक्षी योजना नमामि गंगे में जबरदस्त भ्रष्टाचार किया गया है। नमामि गंगे के पैसों का दुरुपयोग करते हुए इन्होंने कई हवाई यात्राएं की जिसका भुगतान नमामि गंगे से कर दिया गया। इनके द्वारा प्रतिवर्ष 50 हवाई यात्राएं करना अपने आप में संदेह पैदा करता है।इससे प्रतीत होता है कि भजन सिंह द्वारा राज्य के बाहर एवं देश की बाहर भी संपत्तियों का अर्जन किया गया है। इस इनके घोटालों की सूची सैकड़ों में पहुंच गई है। सवाल यह पैदा होता है कि राज्य की जनता के सामने ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों की 100 से अधिक सूची उजागर होने के बाद भी सरकार को भ्रष्टाचार नहीं दिखाई दे रहा है। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि भजन सिंह सरकार में कुछ लोगों को अपना भ्रष्टाचारी काला चश्मा समय-समय पर देते रहे हैं।जिस कारण सरकार को भ्रष्टाचार दिखाई नहीं दे रहा है।

अतः उत्तराखंड क्रांति दल भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ेगा और भजन सिंह के खिलाफ आंदोलन जारी रखते हुए राज्य सरकार से मांग करता है कि वह श्भजन सिंह की अकूत संपत्ति की जांच एवं केंद्र सरकार द्वारा आवंटन धन के दुरुपयोग को देखते हुए इनकी सीबीआई जांच की संस्तुति केंद्र सरकार को भेजें। राज्य सरकार द्वारा जांच न कराए जाने की दशा में उत्तराखंड क्रांति दल जनता को लेकर सीधा आंदोलन के माध्यम से दंडात्मक कार्यवाही करने को बाध्य होगा और भविष्य में किसी भ्रष्टाचारी को राज्य में रहने नहीं देगा। पत्रकार वार्ता में श्री त्रिवेंद्र पवार के साथ केंद्रीय महामंत्री जय प्रकाश उपाध्याय, केंद्रीय महामंत्री जयदीप भट्ट, वरिष्ठ नेता लता पथ हुसैन, केंद्रीय प्रवक्ता संजय छेत्री एवं युवा नेता गौरव उनियाल आदि शामिल रहे।