जीवित पौधों की गणना हो तो वृक्षारोपण अभियान होगा सार्थक : योगेश यादव योगी

REPORT BY-ANOOP SINGH

जीवित पौधों की गणना हो तो वृक्षारोपण अभियान होगा सार्थक : योगेश यादव योगी

जिले में हुए वृक्षारोपण अभियान की होनी चाहिए उच्च स्तरीय जांच

महोबा । पेड़-पौधे पर्यावरण को बचाने के लिए बेहद जरूरी हैं और इसलिए खत्म हो रही हरियाली को बरकरार रखने के मकसद से हर वर्ष बड़े पैमाने पर सरकारी स्तर पर पौधरोपण किया जाता है। वन विभाग के साथ ही कई सरकारी महकमे और गैर सरकारी संस्थाएं इस अभियान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती हैं।

इस साल  47 लाख 48 हजार 119 पौधे जुलाई महीने में रोपे जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। लेकिन वन विभाग के लिए यह बता पाना बेहद मुश्किल है कि पिछले साल रोपे गए 14 लाख 66हजार पौधों में से कितने जीवित बचे हैं। पौधारोपण के नाम पर हर वर्ष होने वाले सरकारी आयोजनों में बड़ी संख्या में पौधे रोपे जाने के दावे किये जाते हैं लेकिन असल में जमीनी हकीकत इस पूरे पौधारोपण की अलग ही कहानी बयां करते हैं।

दरअसल पौधारोपण की संख्या को लेकर किये जाने वाले सरकारी दावों को सच माने तो सरकार के पौधारोपण अभियान की कार्ययोजना पर सवाल खड़े होते हैं। पौधे रोपने के बाद उनके संरक्षण और रखरखाव के लिए किसी तरह का ठोस कार्यक्रम तैयार नहीं होता। यही कारण है कि ज्यादातर पौधे उत्सव के माहौल में रोप दिए जाते हैं लेकिन बाद में वे सूख जाते हैं या जानवर चर जाते हैं। इन पौधों के संरक्षण के लिए सरकारी स्तर पर किसी तरह की जिम्मेदारी या जवाबदेही तय नहीं की गई है।

पौधों को रोपने के बाद उन्हें बचाने को लेकर भी कार्यदायी संस्थाओं को कोई ठोस लक्ष्य नहीं दिया जाता जिसके कारण पौधारोपण अभियान को वह सफलता मिल नहीं पा रही जो लक्ष्य सरकार निर्धारित करती है।सपा के युवा नेता योगेश यादव योगी कहते है कि पेड़ की गणना आयुवर्ष के हिसाब से की जानी चाहिए। यानि जो पौधे रोपे जा रहे हैं, उनके कम से कम एक वर्ष तक जीवित रह जाने के बाद उसे गिनती में शामिल किया जाये। एक वर्ष के दौरान कोई पौधा सभी मौसम देख लेता है और उसके जीवित बच रहने की संभावना बढ़ जाती है।

पौधारोपण के असल लक्ष्य हासिल न हो पाने के पीछे सबसे महत्वपूर्ण कारण यही है कि कार्यदायी संस्थाओं की लक्ष्य आधारित जवाबदेही तय नहीं की गई है। केवल पौधों को रोपना ही लक्ष्य मान लिया गया है जिसके कारण बड़ी संख्या में पौधे रोपे जाने के बाद भी अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here