आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ सम्पन्न,

आंगनबाड़ी -कार्यकत्रियों -का- प्रशिक्षण -कार्यक्रम- हुआ -सम्पन्न,
कम्पियरगंज/गोरखपुर  महायोगी गोरखनाथ क़ृषि विज्ञानं केंद्र चौकमाफी में  प्रसार कार्यकत्रियों का  एकदिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया । इस कार्यक्रम मे प्रसार कार्यकत्रियों   के रूप मे आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया गया. प्रशिक्षण की शुरुआत केंद्र  के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ. संदीप कुमार सिंह द्वारा प्रशिक्षार्थियों को भोजन की उपयोगिता व पोषक तत्वों की कमी से होने वाले रोगों की चर्चा से हुई. केंद्र की गृह वैज्ञानिक डॉ. श्वेता सिंह ने प्रशिक्षण मे आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों  को सुपोषण व कुपोषण के अंतर को बताते हुए, अंकुरित अनाजो व दालो के महत्व के बारे में जानकारी दी ।
तथा अंकुरित दाल एवं प्रोटीन युक्त अनाजो द्वारा कम लागत मे पूरक आहार तैयार करने की विधि के बारे में भी  बताया । इसके साथ ही प्रश्नवली द्वारा प्रशिक्षार्थियों को प्री टेस्ट व पोस्ट इवैल्यूएशन टेस्ट भी किया गया। जिससे उनकी जानकारी का मूल्यांकन हो सके. इस कार्यक्रम मे कृषि वैज्ञानिक  केंद्र के उद्यान वैज्ञानिक डॉ अजीत कुमार श्रीवास्तव ने आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को अंकुरित दालो व अनाजो के महत्त्व के बारे मे बताते हुए अंकुरित अनाज के सेवन की विधि पर प्रकाश डालते हुए बताया, कि अंकुरित दाले पोषक  तत्वों का खजाना होती हैं   ।  इनमें अच्छी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है ।
अंकुरित दालों में विटामिन ए., बी., व सी होता है। इनमें आयरन पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस व मैग्नीज भी होता है। दरअसल प्रोटीन की मदद से आयरन आसानी से शरीर में घुल जाता है ,और शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है।केंद्र के प्रसार वैज्ञानिक डॉ राहुल कुमार सिंह ने प्रशिक्षार्थियों को मानव आहार मे अनाजो एवं दालो के महत्त्व के बारे मे बताया इस अवसर पर केंद्र के वैज्ञानिक डॉ विवेक सिंह, डॉ. अवनीश सिँह, प्रोग्रामर  गौरव सिंह, आशीष सिंह, जीतेन्द्र सिंह  मौजूद थे।