दूसरी बार आई बाढ़ से ग्रामीणों का हाल बेहाल , जायजा लेने पहुंचे नेतागण

जिले-के-बरौली-प्रखंड-में-गंडक-नदी-के-बाढ़-के-तांडव-से-तटीय-गांवों-में-भयंकर-तबाही-मच-रही-है-एक-बार-आई-बाढ़-में-गांव-के-लोगों-को-झकझोर-कर-रख-दिया-लोगों-को-बहुत-कठिनाइयों-का-सामना-करना-पड़ा।
जिले-के-बरौली-प्रखंड-में-गंडक-नदी-के-बाढ़-के-तांडव-से-तटीय-गांवों-में-भयंकर-तबाही-मच-रही-है-एक-बार-आई-बाढ़-में-गांव-के-लोगों-को-झकझोर-कर-रख-दिया-लोगों-को-बहुत-कठिनाइयों-का-सामना-करना-पड़ा।
  • स्वतंत्र प्रभात

गोपालगंज,(तिवारी)। जिले के बरौली प्रखंड में गंडक नदी के बाढ़ के तांडव से तटीय गांवों में भयंकर तबाही मच रही है एक बार आई बाढ़ में गांव के लोगों को झकझोर कर रख दिया लोगों को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।

न जाने कितने माल मवेशी बाढ़ के पानी में बह गये। इससे जनता अभी उबर नहीं पायी कि फिर से दोबारा आई बाढ़ ने बरौली चंदन टोला, सुब्हानी टोला, नवादा और बहुत से गांव को अचानक आई बाढ़ ने प्रभावित किया है।

इसी क्रम में आम आदमी पार्टी के युवा जिला अध्यक्ष जावेद अख्तर ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया और बाढ़ में प्रभावित लोगों से मिले लोगों का दुःख दर्द सुनकर आम आदमी पार्टी के युवा जिला अध्यक्ष जावेद अख्तर कि आंख भर आई लोगों ने बाढ़ से हुए नुकसान को अपने जुबां से बयां किया।

तब यह सब सुनकर के आम आदमी पार्टी के युवा जिलाध्यक्ष जावेद अख्तर भाउक को हो गए उन्होंने कहा कि आखिर हर साल आ रही बाढ़ और यह तबाही को रोकने के लिए कोई न कोई व्यवस्था तो होनी चाहिए।

जो भावी सरकार बाढ़ की स्थिति देखते हुए नजरअंदाज कर रही है उन्होंने बताया कि हर साल की यही स्थिति है बरसात के मौसम के पहले सरकार तरह-तरह की व्यवस्थाएं करती है बाढ़ को रोकने के लिए लेकिन जब बरसात का मौसम आता है।

तो सारी योजनाएं विफल हो जाती है उन्होंने नितीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आखिर सरकार किस प्रकार कि योजनाएं तैयार करती है कि बरसात के मौसम आते आते सारी योजनाएं चकना चूर हो जाती है। आखिर इसका जिम्मेदार कौन हैं।