बिजनौर अस्पताल की लापरवाही से हो रही है लोगों की मौत

बिजनौर अस्पताल की लापरवाही से हो रही है लोगों की मौत

बिजनौर-उत्तर प्रदेश

यूपी के बिजनौर स्थित जिला अस्पताल में एलए 2 वार्ड में कोविड-19 के मरीजों का इलाज किया जाता है लेकिन अस्पताल में ना ही कोई डॉक्टर है ना ही कोई मरीजों को सुविधा दी जा रही है रात से एडमिट मरीजों को देखने के लिए कोई भी डॉक्टर नहीं आए इसी लापरवाही के कारण मरीज अपना दम तोड़ रहे हैं अस्पताल में मरीजों के परिजन अस्पताल के स्टाफ के सामने गिड़गिड़ा रहे हैं l

मरीज को ऑक्सीजन लगाकर उसकी जान बचा लो लेकिन अस्पताल के स्टाफ को और डॉक्टर को कोई फर्क नहीं पड़ रहा मरीज मरे चाहे जिए परिजनों का अस्पताल के स्टाफ व डॉक्टरों पर साफ आरोप है कि अस्पताल का स्टाफ व डॉ ना हीं मरीजों को कोई सुविधा दे रहे हैं और ना ही ऑक्सीजन उपलब्ध करा रहे हैं जिसके कारण मरीज अपना दम तोड़ रहे हैं जो भी सेवाएं उपलब्ध हो रही है वह मरीजों के परिजन स्वयं उपलब्ध करा रहे हैं मरीजों को दम तोड़ता देख मरीजों के परिजनों का बुरा हाल है यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चाहे स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बड़े-बड़े वादे करें लेकिन उनके वादे पूर्ण रूप से खोखले साबित हो रहे हैं अस्पतालों की स्थिति इतनी अत्यधिक दयनीय है कि जिसका हम लोगों ने कभी अंदाजा नहीं लगाया है l

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ज्ञापन देकर मनोज कुमार पारस (पूर्व मंत्री ) विधायक 18 नगीना बिजनौर उत्तर प्रदेश ने बताया कि बिजनौर के प्रतिदिन 8 से 10 मरीजों की ऑक्सीजन ना मिलने की वजह से मृत्यु हो रही है बिजनौर में पूर्व में आए लगभग 24 वेंटिलेटररो में से 8 से 10 नाम मात्र के लिए काम कर रहे हैं क्योंकि उनको चलाने हेतु टेक्नीशियन नहीं है और बाकी सभी सील डिब्बों में सील रखे हैं केवल एक प्राइवेट हॉस्पिटल को (पुलकित मेमोरियल हॉस्पिटल) जोकि बिजनौर मुख्यालय में उपस्थित है उसको कोविड-19 हॉस्पिटल नामित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here