‌नैनो फर्टिलाइजर किसान सरकार तथा पर्यावरण के लिए वरदान साबित होगी अवस्थी ।

‌नैनो फर्टिलाइजर किसान सरकार तथा पर्यावरण के लिए वरदान साबित होगी अवस्थी ।

‌फूलपुर में अगले साल अक्टूबर तक नैनो का उत्पादन होगा।

‌ स्वतंत्र प्रभात।

‌ प्रयागराज ब्यूरो।

‌ किसानों की सबसे बड़ी संस्था इफको के प्रबंध निदेशक डॉ यू एस अवस्थी ने कहा है कि नैनो फर्टिलाइजर से किसान सरकार और पर्यावरण को भारी लाभ होगा और यह उत्पाद सभी के लिए आने वाले समय में वरदान साबित होगी।

‌ डॉक्टर अवस्थी फूलपुर में वर्चुअल पत्रकार वार्ता कर रहे थे ।

‌उन्होंने कहा वैज्ञानिकों द्वारा यह सिद्ध किया गया है कि ग्लोबल वार्मिंग का खतरा सर्वाधिक नाइट्रोजन से है जो यूरिया में सर्वाधिक पाया जाता है। इसके खतरे को देखते हुए इफको संस्था ने नैनो फर्टिलाइजर पर कई वर्ष तक रिसर्च करने के बाद इसे बाजार में उतारने में अगले साल तक सफल हो जाएगी।
‌ उन्होंने कहा कि 9000 परीक्षण के बाद नैनो फर्टिलाइजर की स्वीकृति किसान सरकार और इसके विशेषज्ञों ने दी है। नैनो फर्टिलाइजर 500 मिलीलीटरकी बोतल एक बोरी यूरिया का स्थान लेगा और इसका दाम यूरिया की एक बोरी से 10% कम होगा। जो किसानों को 240 रुपए में मिलेगी जब की एक बोरी यूरिया के दाम 260 रुपए है।

‌ नैनो से जहां किसानों को लगभग 28000 करोड रुपए 1 वर्ष में लाभ होगा वही सरकार को 2400 सौ करोड़ रुपए की सब्सिडी की भी बचत होगी। नैनो पर्यावरण को प्रदूषित होने से भी बचाएगा जिससे ग्लोबल वार्मिंग का खतरा कम रहेगा उन्होंने बताया कि 9000 परीक्षण करने के बाद इसे भारत सरकार के बायो फर्टिलाइजर विभाग के द्वारा भी अनुमति लगभग मिल चुकी है और एक या 2 दिन में कंट्रोल ऑर्डर मिल जाएगा जिसके बाद इसे हम बाजार में किसानों के हाथ बेचने के लिए अधिकृत हो जाएंगे ।

‌उन्होंने बताया कि इस वर्ष कलोल गुजरात आंवला बरेली तथा फूलपुर में नैनो फर्टिलाइजर प्लांट का निर्माण शुरू कर रहे हैं अगले वर्ष अप्रैल तक कलोल प्लांट में नैनो का उत्पादन शुरू हो हो जाएगा तथा फूलपुर और आंवला में अक्टूबर तक उत्पादन शुरू होने लगेगा। फूलपुर में नैनो प्लांट लगाने पर लगभग 150 करोड़ रुपए की लागत आएगी। म नैनो फर्टिलाइजर के प्रयोग से किसानों के उत्पादन में बढ़ोतरी होगी तथा इसकी उत्पाद की गुणवत्ता भी अच्छी रहेगी तथा इसको बेचने वाले सहकारी समितियां भी नुकसान में नहीं रहेंगे क्योंकि जितना एक बोरी यूरिया पर उनको लाभ मिलता था उतना ही लाभ 500 मिलीलीटर 1 सीसी पर भी मिलेगा एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि यदि अन्य फर्टिलाइजर प्लांट भी नैनो का उत्पादन करना चाहेंगे तो उन्हें हम अपनी टेक्नोलॉजी और फार्मूला देंगे लेकिन उनसे हम रायल्टी चार्ज लेंगे। इसलिए इसमें हमारी संस्था को कोई नुकसान नहीं होगा उन्होंने यह भी बताया यूरिया को रिप्लेस करने के बाद हम डीएपी की भीखपत कम करने के लिए उसके भी विकल्प में नैनो का उत्पाद करने पर विचार कर रहे हैं ।

‌ प्रबंध निदेशक का इकाई प्रमुख एम मसूद ने स्वागत एवं अभिनंदन किया एवं महाप्रबंधक कार्मिक एवं प्रशासन में कार्यक्रम का संचालन और पत्रकारों का आभार व्यक्त किया।

‌ प्रयागराज ब्यूरो से दयाशंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here