मीडिया में प्रस्तुत की जाने वाली महिलाओं की छवि का प्रभाव युवाओं की मनोवृत्तियों पर पड़ता है-डा. विधु खरे दास

कादीपुर/सुलतानपुर

मीडिया में प्रस्तुत होने वाली सामग्री का समाज पर सर्वाधिक प्रभाव पड़ता है । महिलाओं की जो छवि मीडिया में प्रस्तुत की जा रही है, वह युवाओं की मनोवृत्तियों को प्रभावित कर रही है। इसलिए मीडिया को स्त्री की वास्तविक छवि को प्रस्तुत करना चाहिए ना की किसी मन रंजक विषय वस्तु के रूप में यह बातें  संत तुलसीदास पीजी कॉलेज कादीपुर में मिशन शक्ति के तहत आयोजित आयोजित ऑनलाइन संगोष्ठी और जागरूकता कार्यक्रम में डा विधु खरे दास ने कही। मिशन शक्ति के तहत आयोजित जागरूकता कार्यक्रम का आज समापन दिन था। इस अवसर पर महाविद्यालय में एक ऑनलाइन संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें समाज के विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय योगदान करने वाली महिलाओं को वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया ।

श्रीमती शुभांगिनी शुक्ला उप जिलाधिकारी वाराणसी और श्रीमती शालिनी सिंह नायब तहसीलदार कादीपुर वक्ता के रूप में आमंत्रित हुई उन्होंने बालिकाओं को आत्म गौरव के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।  सहायक विकास अधिकारी सुश्री कंचन सिंह प्रयागराज से ऑनलाइन संगोष्ठी में सम्मिलित हुई, उन्होंने स्त्री-पुरुष का भेद समाप्त करने के लिए बालक बालिकाओं को परस्पर मेलजोल के अधिक अवसर प्रदान करें की वकालत की । मिर्जापुर से शोधार्थी श्रीमती संगीता सिंह नेऑनलाइन संगोष्ठी में भाग लिया और महिला  स्वावलंबन और सशक्तिकरण के लिए चलाई जाने वाली सरकारी योजनाओं पर प्रकाश डाला । लखनऊ से सामाजिक कार्यकर्त्री श्रीमती दुर्गेश नंदिनी ने मेट्रो शहरों में बालिकाओं की सुरक्षा के संदर्भ में अपने विचार रखें। इससे पूर्व कल ऑनलाइन संगोष्ठी और जागरूकता कार्यक्रम जुडिशल मजिस्ट्रेट श्रीमती श्वेता चौधरी ने बालिकाओं की सुरक्षा और अधिकारों के विधिक प्रविधानों से छात्राओं को अवगत कराया। असिस्टेंट कमांडेंट प्रशांत मिश्रा ने छात्र छात्राओं को अपना आत्म बल बढ़ाते हुए पुलिस और रक्षा क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए उन्हें प्रेरित किया।आज संगोष्ठी का आरंभ डॉक्टर जीनत रफीक जी ने अपने संबोधन से किया । राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई  ने बालिका अधिकारों  और सुविधाओं के संदर्भ में जागरूकता कार्यक्रम चलाया। प्रबंधक श्री सौरभ त्रिपाठी ने दशहरा की बधाई देते हुए मिशन शक्ति के तहत चलाए जाने वाले कार्यक्रम को ऐतिहासिक बताया । चीफ प्राक्टर डॉ मदन मोहन सिंह ने अभिभावकों और छात्रों को बालिकाओ की सुरक्षा और सम्मान की शपथ दिलाई ।प्राचार्य डॉ जितेंद्र तिवारी सभी वक्ताओं का स्वागत किया। डाॅ इंदु शेखर उपाध्याय सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। संगोष्ठी का संचालन डा अंजू सिंह विभागाध्यक्ष गृह विज्ञान ने किया। इस अवसर पर 200 से अधिक छात्र-छात्राएं व अभिभावक तथा डा एसबी सिंह ,डॉ संजीव रत्न गुप्त,डॉ समीर पांडे ,डॉ सतीश कुमारसिंह , संजय प्रकाश दुबे ,डाॅ रविंद्र, डॉ कुमुद राय, डॉ राज कुमार सिंह, डाॅ हरेंद्र, डॉ सुरेंद्र तिवारी सहित महाविद्यालय के अनेक प्राध्यापक और कर्मचारी उपस्थित रहे।