सगे भाई ने भाई के साले की हत्या की थी।

‌सगे-भाई-ने-भाई-के-साले-की-हत्या-की-थी।
‌बस महुआ में कबाड़ी की दुकान में हुई हत्या का पर्दाफाश।‌‌

स्वतंत्र  प्रभात।

‌‌प्रयागराज।‌‌ व्यापारिक प्रतिस्पर्धा को लेकर एक भाई ने दूसरे भाई के साले की हत्या कर दी जिसका कारण सिर्फ यह था कि वह अपने बहनोई की मदद करने के लिए अपने घर से यहां आया था और दुकान में सो रहा था।‌ बस महुआ में 4 दिन पूर्व 11 नवंबर को हुई सड़क के किनारे एक कबाड़ की दुकान में सो रहे राजू उर्फ  सलीम पुत्र इदरीश निवासी छोरियां थाना कौंधियारा के  सिर कुच कर रात में हत्या कर दी थी‌‌ पुलिस उपमहानिरीक्षक ने इस मामले को जल्द से जल्द पर्दाफाश करने का कड़े निर्देश थरवई पुलिस  को दिया था 4 दिन बाद आज संदेह के आधार पर हसनैन कि भाई शोहराब  को पुलिस ने गिरफ्तार करके पूरे मामले का पर्दाफाश कर दिया।‌‌

बताया जाता है किथरवई थाना क्षेत्र के हसनैन पुत्र तथा  सोह राब पुत्र इदरीश दोनों सगे भाइयों ने बस महुआ रोड पर कबाड़ का दुकान खोले थे और दोनों का हिसाब किताब शोहराब की पत्नी रखती थी लेकिन कुछ दिन बाद हसनैन ने हिसाब किताब देना बंद कर दिया जिससे दोनों में मनमुटाव हो गया और सोहराब ने उसे अपनी दुकान अलग कर ली उसके भाई हसनैन ने अपनी मदद के लिए आपने साले राजू उर्फ सलीम को अपनी ससुराल कौंधियारा से दुकान में  बुला लिया जिससे उसकी दुकान चलने लगी औरशोहराब  की दुकान कमजोर पड़ गई

इसी बीच कबाड़ की फेरी लगाने वाले भी मलावा के एक कबाड़ गुलाम के यहां छोड़ कर हसनैन के यहां कबाड़र  बेचने लगे जिससे वह भी खुन्नस खाने लगा था ।‌हसनैन के सगे भाई ने इसका लाभ उठाते हुए अपने भाई के साले  सलीम की रात में जाकर दुकान में सो रहे राजू की टायर खोलने वाला भीम और पेचकस से उसके सर पर कई बार करके हत्या कर दी। और अपने भाई को गुमराह करके मलावा के गुलाम और तीन अन्य लोगों के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत करा दिया

लेकिन पुलिस ने जब जांच शुरू की तो उसके भाई  सोहराब पर संदे हुआ और उनको पूछताछ के नाम पर जब पुलिस ने पकड़ा और कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने सच्चाई को उगलते हुए पूरे मामले का पर्दाफाश किया।‌ और बताया किअपनी दुकान चलाने के लिए राजू की हत्या कर दी थी जिससे उसके भाई को कोई मदद करने वाला ना मिले और मेरी दुकान भी चल जाए इसीलिए उसने हत्या करके एक दूसरे कबाड़ी से जिसका मनमुटाव हमारे भाई हसनैनसे चल रहा था उसको नामजद करा दिया ।‌‌इस प्रकार 4 दिन के अंदर इस मामले का पर्दाफाश करने पर वरिष्ठ अधिकारियों ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए पुलिस और एसओजी टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।‌‌‌

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here