धूमधाम से मनाया गया सूफी संत का वार्षिक उर्स

धूमधाम -से -मनाया- गया -सूफी- संत -का- वार्षिक- उर्स

देश में अमन व शांति के लिए मांगी गई दुआ

सुलतानपुर बंधुआ कला –
सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का वार्षिक उर्स खान काहे चिश्तिया बंधुआ कला में धूमधाम से मनाया गया। जिसकी सरपरस्ती औलाद ए रसूल हजरत सैयद मेराज अशरफ सज्जाद नशीन आस्ताने औलिया जायस शरीफ ने किया। उर्स में मुल्क के तमाम ओल्मा व मशाईख व  शोहरा ने शिरकत किया। कार्यक्रम का संचालन तबस्सुम रजा चिश्ती ने तिलावते कुरान पाक से की। मुख्य भाषण धर्मगुरु सय्यद मेराज अशरफ ने ख्वाजा साहब के जीवनी पर रोशनी डाली और कहा सुकून अल्लाह के जिक्र में ही मिलता है, यही अवलिया ऐ केराम का मिशन है।
मौलाना नूरुल हसन साहब ने ख्वाजा की करामतो का तजकेरा किया व मौलाना मोहम्मद अहमद वारसी साहब ने बयान में कहा इस्लाम किरदार की बुनियाद पर फैला है ना की तलवार की बुनियाद पर। कार्यक्रम में सद्दाम प्रतापगढ़ी जमा टांडवी कामिल अमेठवी अब्दुल वजूद अमेठवी लइक सुल्तानपुरी और दिगर  शोहरा ने मनकबते ख्वाजा पेश की। इलाकाई ओलमाओं में हाजी गुलशेर अब्दुल माबूद व हाफिज रिजवान इश्तियाक आलम, मौलाना उस्मान, मौलाना हयात, हाफिज अयाज,  मौलाना अमानुल्लाह और तमाम ओल्मा ने शिरकत की। प्रोग्राम सलातो सलाम पर हुआ बादहू चादर व रुमाल तोगरा व गिफ्ट तक्सीम हुआ हाजरीन में गौहर अली सिद्दीकी मेराज  हमजा लखनऊ मुन्ना  मेराज शेरू चांद बाबू गुलशेर अब्दुल हमीद इस्लामुद्दीन दिलकश मदनी खुर्शीद फारूकी शहर आलम आदि गणमान्य लोग मौजूद रहे।आयोजक: मौलाना मोहम्मद इब्राहिम साहब अशरफी ने सबका इस्तकबाल किया और मुल्क में अमन शांति के लिए दुआ की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here