शुरू हुआ निमोनिया टीकाकरण, विटामिन ए, कृमि मुक्ति अभियान

REPORT BY-ANOOP SINGH

शुरू हुआ निमोनिया टीकाकरण, विटामिन ए, कृमि मुक्ति अभियान

डीएम ने बच्चों को दवा खिलाकर किया आगाज

डीएम बोले- कोविड से लड़ाई में स्वास्थ्य विभाग की भूमिका अहम

महोबा । राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत निमोनिया से बचाव के लिए टीकाकरण, विटामिन ए संपूरण कार्यक्रम और राष्ट्रीय कृमि दिवस कार्यक्रम का नगरीय स्वास्थ्य केंद्र, बजरिया में जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी ने शुभारंभ किया। बच्चों को पेट के कीड़े मारने की दवा एल्बेंडाजॉल और विटामिन ए की खुराक पिलाई। बच्चों को पहली बार न्यूमोकाकल कॉन्जुएंट वैक्सीन का टीका लगाया गया। 

जिलाधिकारी ने कहा कि किसी भी बच्चे का बचपन स्वस्थ रहे तो उसका पूरा जीवन स्वस्थ रहता है। कोविड-19 के संक्रमण काल के दौरान भी स्वास्थ्य विभाग सभी कार्यक्रमों को पूरी तत्परता से आगे बढ़ाने का कार्य कर रहा है। कोविड से लड़ाई में सबसे बड़ी भूमिका स्वास्थ्य विभाग की है। संक्रमण को नियंत्रित करने और मरीजों के ठीक होने की दर को बढ़ाने व मृत्यु दर को न्यूनतम करने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता मिली है।

शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए नियमित टीकाकरण सबसे जरूरी है।मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सुमन ने कहा कि निमोनिया टीकाकरण में 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को न्यूमोकॉकल कॉन्जुएंट वैक्सीन (पीसीवी) लगाई जाएगी। 1 से 19 वर्ष तक के किशोर-किशोरियों को एल्बेंडाजॉल और विटामिन ए की खुराक दी जाएगी। कहा कि जनपद में लगभग 11.08 लाख बच्चों को विटामिन ए की दवा खुराक दी जाना है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. जीआर रत्मेले ने बताया कि विटामिन ए की कमी से बच्चों में रतौंधी, अंधापन, दस्त, निमोनिया होने का खतरा रहता है। उक्त दवा के कारण बच्चों के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, जिससे बच्चों का मानसिक व शारीरिक विकास होता है।

एल्बेंडाजोल दवा पेट के कीड़ों को खत्म कर रक्त की लालिमा में वृद्धि, आक्सीजन के प्रवाह में सहयोगदायक तथा बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक विकास में वृद्धि करती है। इस मौके पर डीईआईसी मैनेजर डा. अंबुज गुप्ता, डीपीएम ममता अहिरवार, स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डा. एसएन वर्मा, शहरी स्वास्थ्य समन्वयक मनोज कुमार लाल, फार्मेसिस्ट धर्मेंद्र सिंह, फिरोज अहमद सहित एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहीं।