एन डी कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक, शिक्षक एवं छात्र टीकाकरण हेतु करेंगे जागरूक।

 कृषि विश्वविद्यालय द्वारा चलाया जाएगा टीकाकरण अभियान

हर महाविद्यालय एवं समस्त 25 केवीके एवं शोध प्रक्षेत्र 5-5 गांव एवं हर छात्र 5-5 लोगों का कराएं टीकाकरणः कुलपति- डॉ बिजेंद्र सिंह

                 निज संवाददाता
              कुमारगंज [अयोध्या]
उत्तर प्रदेश की राज्यपाल महोदया के निर्देश के क्रम में आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज ,अयोध्या के कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह ने आज एक आकस्मिक बैठक विश्व विद्यालय के समस्त अधिष्ठाता, निदेशक, वरिष्ठ वैज्ञानिक ,प्रशासनिक अधिकारियों के साथ आयोजित कर विश्व महामारी कोविड-19 के बढ़ते हुए दूसरे चरण की रोकथाम हेतु रणनीति पर चर्चा की।
                चरणबद्ध विश्वविद्यालय के समस्त महाविद्यालय, 25 कृषि विज्ञान केंद्र एवं शोध प्रक्षेत्र केंद्र को 5-5 गांव की जिम्मेदारी देते हुए, यह निर्देशित किया गया कि दिनांक 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक 4 चरणों में गांव में जाकर 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को चिन्हित कर उनको कोविड-19 वैक्सीनेशन लगवाने हेतु प्रेरित करें, एवं चरणबद्ध तरीके से उनका टीकाकरण कराएं । साथ ही समस्त अधिष्ठाता को निर्देशित किया कि समस्त छात्रों को भी इस कार्य में सम्मिलित करें।
             उत्तर प्रदेश की राज्यपाल महोदया ने प्रधानमंत्री कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालय के कुलपतियों एवं कुलसचिव के साथ वर्चुअल मीटिंग करते हुए निर्देशित किया कि इस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए सभी लोग बढ़-चढ़कर इसके रोकथाम के लिए कार्य करें। जिसके क्रम में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री के संदेशों को मूल रूप देने के लिए विश्वविद्यालय वचनबद्ध है।
                      डॉ सिंह ने केवीके एवं समस्त शोध प्रक्षेत्रों के इंचार्ज को यह निर्देशित किया कि अपने संबंधित जिलों के जिला अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी एवं चिकित्सा अधिकारी से संपर्क कर उनके सहयोग से 45 वर्ष के ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन हेतु प्रेरित करें एवं टीकाकरण कराएं । तथा साथ ही यदि किसी व्यक्ति में बीमारी के लक्षण दिखाई पड़ते हैं तो उनके रहने खाने एवं दवाई आदि की भी व्यवस्था कराएं ।
               विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि कुलपति ने यह भी कहा कि इस कार्य को अच्छे एवं प्रभावी ढंग से करने वाले छात्रों एवं शिक्षकों को विश्वविद्यालय स्तर पर सम्मानित कर पुरस्कृत भी किया जाएगा।