10 लाख की लूट में क्षेत्राधिकारी हटाए गए रामसागर नए क्षेत्राधिकारी

नशेड़ियों-से-परेशान-एक-दर्जन-लोगों-ने-की-शिकायत।
स्वतंत्र प्रभात।

प्रयागराज-फूलपुर के ज्वालापुर गांव में  दिन दहाड़े दश लाख की हुई लूट के मामले में क्षेत्राधिकारी फूलपुर हटा दिए गए ।उनके स्थान पर बाहर से नवा आगंतुक रामसागर को फूलपुर क्षेत्राधिकारी का कार्यभार दिया गया है पुलिस उपमहानिरीक्षक सर्वेश त्रिपाठी ने यहआदेश जारी किया है। बताया जाता है कि कल एक शिक्षक लाल जी नागरके यहां करीब पांच लाख का आभूषण तथा साडे तीन लाख नगद की लूट दो मोटरसाइकिल बदमाशों द्वारा तमंचा सटाकर किया गया था ।शिक्षक दंपति उस समय घर पर नहीं थे और झूसी में एक नए प्लांट पर भवन निर्माण के सिलसिले में भूमि पूजन करने गए थे घर पर उनकी बूढ़ी मां और एक बेटी थी ।

बदमाश बाइक से उनके घर पहुंचे और उनके बारे में पूछताछ की इसी बीच एक बदमाश ने कहा कि प्यास लगी है एक गिलास पानी दो घर में बूढ़ी मां ने कहा कि पोती एक गिलास पानी दे दो । जैसे वह पानी 14 वर्ष की लड़की लेने गई अंदर से बदमाश पीछे पीछे  चला गया उसके कनपटी पर तमंचा सटाकर अलमारी की चाबी ले लिया और लगभग पाच लाख के आभूषण और ₹300000 नगद निकाल कर चंपत हो गया । बेटी ने हल्ला किया गांव वाले दौड़े और घर वालों को सूचना दी फूलपुर पुलिस मौके पर सूचना पाने के बाद पहुंची और  बड़ी ही ला हवाली के बाद उसने मुकदमा पंजीकृत किया

लेकिन क्षेत्राधिकारी फूलपुर की इस मामले में निष्क्रियता को देखते हुए पुलिस महानिरीक्षक ने उन्हें वारा  सर्किल का कार्यभार दे दिया और यहां नवागंतुक राम सागर को फूलपुर का नया क्षेत्राधिकारी के रूप में कार्यभार ग्रहण करने का आदेश दिया बता दें कि क्षेत्राधिकारी अजीत कुमार एक माह पूर्व फूलपुर ही क्षेत्राधिकारी के रूप में कार्य प्रारंभ किए थे। इसके पूर्व यहां के प्रभारी निरीक्षक बीके सिंह  हाई कोर्ट के निर्देश पर निलंबित किए जा चुके हैं उनके ऊपर आरोप था कि वह 3 माह से सामूहिक बलात्कार के मामले को रिपोर्ट न लिख कर के उस मामले को दबा रहे थे इसी बीच कल दस लाख की लूट होने से डी आई जी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने कड़ा रुख अख्तियार किया और उन्हें पुलिस की लापरवाही समझ में आई।