मथुरा उत्तर प्रदेश के गोवर्धन के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक व नर्स की लापरवाही का मामला सामने आया है।

मथुरा उत्तर प्रदेश के  गोवर्धन के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक व नर्स की लापरवाही का मामला सामने आया है।

गोवर्धन के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पीड़ित मरीज के परिजनों द्वारा नर्स से पूछताछ करती पुलिस 

रिपोर्टर बाबू सिंह जादौंन मथुरा 

गोवर्धन में प्रसव के दौरान महिला की हालत हुई खराब - सौ नंबर की पुलिस पहुंचने के बाद जिला अस्पताल पहुंचाया 

मथुरा उत्तर प्रदेश के
 गोवर्धन के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक व नर्स की लापरवाही का मामला सामने आया है। मरीज के परिजनों ने इलाज के नाम रिश्वत मांगने और रिश्वत न देने पर लापरवाही किये जाने का आरोप लगाया है। आरोप के चलते पुलिस की मौके पर पहुंची। प्रसव होने के बाद महिला की हालत खराब होने पर परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगाया और सौ नंबर पर पुलिस को सूचना भी। पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को तुरंत एम्बूलैंस से जिला अस्पताल भिजवाया। परिजनों का आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी इलाज करने के नाम पर रूपया मांगते हैं। चिकित्सकों ने जानबूझकर लापरवाही की और हालत खराब हो गई। बछगांव की रहने वाली मीरा पत्नी दामोदर को गुरूवार प्रातः करीब 10 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्रसव पीड़ा होने उसके परिजनों ने भर्ती कराया। बताया गया कि महिला का उपचार बछगांव की स्वास्थ्य विभाग की आशा पूनम की देखरेख में चल रहा था। प्रसव पीड़ा के दौरान महिला मीरा की हालत खराब हो गई। करीब दो घंटे बाद महिला ने बच्ची को जन्म दिया। बच्ची को जन्म देते ही महिला की हालत खराब होने लगी। खून ज्यादा निकलने से परिजनों को चिंता हुई। इसी बीच परिजनों की कहासुनी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की नर्स सलौनी से हो गई। अस्पताल में ही हंगामा होने लगा। परिजनों ने सौ नंबर को सूचना देकर पुलिस भी बुला ली। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी मनीष पौरूण आयुष्मान कार्यक्रम में मथुरा गये हुए थे। उनकी जगह मेडीकल आॅफिसर डाॅ. सचिन ने आनन-फानन में महिला को जिला अस्पताल एम्बलैंस से भिजवाया। पुलिस ने चिकित्सकों से पूछताछ की। डाॅ. सचिन ने बताया कि प्रसव वाली महिला के बच्चा उल्टा था और उसके डिलीवरी के दौरान घाव ज्यादा हो गया। समुचित टांके लगाने की व्यवस्था न होने से उसे जिला अस्पताल भिजवा रहे थे लेकिन परिजन उसे यहीं टांके लगाने की कह रहे थे। पुलिस के आने के बाद उसे जिला अस्पताल भिजवाया है। उसकी हालत ठीक है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी मनीष पौरूष ने बताया कि बच्चा उल्टा होने पर परेशानी हुई। यह डिलीवरी मथुरा अस्पताल में ही होनी थी लेकिन डिलेवरी होने के बाद जिला अस्पताल भिजवा दिया है। 

Loading...

Comments