विद्यालय की कमियों को  सोशल मीडिया पर  उजागर करने पर  पुत्री को विद्यालय से किया निष्कासित

विद्यालय की कमियों को  सोशल मीडिया पर  उजागर करने पर  पुत्री को विद्यालय से किया निष्कासित

 मनोज कुमार की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर की तहसील लहरपुर के कस्बा तंबौर में सरकार के सारे नियमों को ताक पर रखकर चलाया जा रहा

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय तंबोर में कैसे पूरा होगा  प्रधानमंत्री  का सपना- बेटी पढ़ाओ ,बेटी बचाओ ।जब स्कूल की वार्डन के द्वारा बच्चों पर हो रहा अत्याचार ।

जिला सीतापुर कस्बा तंबौर में कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में पढ़ने वाली 10 वर्षीय शिवांकी पुत्री प्रदीप कुमार निवासी ग्राम सिकरी बेहटा ने बताया कि मेरे पापा प्रदीप कुमार ने स्कूल की कमियों को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था।इससे भड़की वार्डन मैडम ज्ञानेश्वरी ने मुझे प्रताड़ित करना चालू कर दिया था।और आधी आधी रात तक जगाना, खाना ना देना ।

कोई अधिकारी अगर जांच में आता था। तो मुझे कमरे में बंद कर दिया जाता । अन्य लड़कियों को अधिकारियों से मिलाया जाता अगर मुझे मिलाया जाता तो मैं सच्चाई बताना चाहती थी ।लेकिन वार्डन ज्ञानेश्वरी ने मुझको किसी अधिकारी से मिलने नहीं दिया। मेरी जगह अन्य बच्चियों को खड़ा करके स्कूल की खानापूर्ति करवाती रही। मेरे पिता के खिलाफ तंबौर थाने में मुझसे बता कर कि अगर तुम अपने पापा के खिलाफ जो मैं कहूं वह कहो तो, तो ठीक है ।

वरना मैं तुम्हारे पापा के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवा दूंगी। तुम्हारे पापा जेल चले जाएंगे लेकिन मैंने झूठ नहीं बोला और मेरे पापा के खिलाफ उन्होंने तंबौर थाने में मुकदमा दर्ज करवा दिया। मेरे ऊपर दबाव बनाने लगी कि जैसा मैं कहती हूं। ऐसा तुम वीडियो में कहो नहीं कहोगी तो तुम्हें कुछ नहीं दिया जाएगा ।इतनी दबंगई के चलते 


जब जानकारी पीड़ित पक्ष को हुई।  तो तंबौर थाने में तहरीर लेकर गया। लेकिन थाने में नहीं ली गई ,तहरीर। जब स्कूल की कमियां सोशल मीडिया में आई तो सोशल मीडिया के पत्रकारों ने पुलिस अधीक्षक सीतापुर से न्याय की गुहार लगाई  ।

और कहा ज्ञानेश्वरी मैडम की कमियों को उजागर करने पर एनजीओ प्रभारी गिरिजेश कुमार गुप्ता ने एक ईमानदार पत्रकार  को धमकाया और जाति सूचक अपशब्दो का प्रयोग किया है। और कहा जान से मारने की धमकी भी दे दी है। इतना सुनते ही एडिशनल एसपी ने कहा यह मामला हमारे बिभाग का नही है ।


बेसिक शिक्षा अधिकारी सीतापुर को अवगत कराते हुए कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय तंबौर की जांच करवाने  का  निवेदन किया गया । इस पर उन्होंने बताया  कि मैं निष्पक्ष जांच करूंगा। अगर वार्डन ज्ञानेश्वरी देवी दोषी है तो कार्रवाई की जाएगी या नही। अब देखना यह है कि अधिकारी निष्पक्ष जांच करता है या सत्ता पक्ष के हनक में जांच होती है ।

बाइट- पीड़ित पत्रकार प्रदीप अवस्थी की पुत्री शिवांकी ।

ब्यूरो रिपोर्ट, सीतापुर।

Loading...

Comments