इस सरकारी अस्पताल में ग्लूकोज की जगह चढ़ती हैं शराब की बोतलें

करनाल (ब्यूरो)

रोहतक जिले के महम चैबीसी के गांव फरमाणा बादशाहपुर में प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र पर ग्लूकोज की बोतल लगने की बजाए यहां शराबी शराब की बोतलें चढ़ाते हैं।

यहां मरीजों का इलाज नहीं बल्कि शादियां होती हैं और शराबी लोग शराब गटकते हैं। वहीं जब इस संबंध में यहां के डॉक्टरों से बातचीत की कोशिश की जाती है वे बदतमीजी पर उतर आते हैं।


दरअसल, पिछली कांग्रेस सरकार में 2014 में पीएचसी बनकर तैयार हो गई थी। जिस पर करोड़ों रूपये खर्च किए गए। लेकिन पिछले चार साल से स्वास्थ्य केन्द्र डॉक्टरों सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की बाट जोह रहा है।

केन्द्र केवल एक लैब एटैंडैंट के सहारे चल रहा है। जबकि केन्द्र में सभी प्रकार की सुविधाएं दी गई हैं। परंतु डॉक्टर व स्टाफ नर्स कभी यहां आए ही नहीं।

Comments