सीएचसी जहांगीरगंज खराब है एक्सरे मशीन मरीजों को हो रही है परेशानियां

सीएचसी जहांगीरगंज खराब है एक्सरे मशीन मरीजों को हो रही है परेशानियां

सीएचसी जहांगीरगंज खराब है एक्सरे मशीन मरीजों को हो रही है परेशानियां 

 राजेसुल्तानपुर /संवाददाता बृजेश मौर्य


राजेसुल्तानपुर अंबेडकरनगर भारतीय जनता पार्टी केंद्र व प्रदेश की सरकार भले ही लोगों की सेहत सुधारने स्वस्थ रखने के लिए तमाम कार्यक्रम आयोजित कर रही है। सभी पर पानी फिरता नजर आ रहा है। अगर देखा जाए तो स्वास्थ्य केंद्रों की सेहत में सुधार नहीं दिख रहा है।

क्षेत्र के सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की दशा आज भी बदहाल है। कहीं दवाओं की कमी तो कहीं चिकित्सक की कमी से स्वास्थ्य केंद्र खुद बीमार दिखता नजर आ रहा है। सीएचसी पर लगी एक्सरे मशीन वर्षों से खराब होने से मरीजों को लाभ नहीं मिल रहा है।


स्थानी विधानसभा और तहसील क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्रों की सेहत का राज जानने के लिए मंगलवार को किए गए पड़ताल में पता चला कि कहीं चिकित्सक की कमी तो कहीं दवाओं और सेवाओं की भी कमी से भी केंद्र खुद पीड़ित मिले। जिससे मरीजों का इलाज हो पाना संभव नहीं दिख रहा है सरकार नेत्र स्वास्थ्य सेवाओं को देने के लिए तरह-तरह की योजनाओं का संचालन कर रही है फिर भी स्वास्थ्य केंद्रों की दशा में सुधार नहीं हो रहा है विभागीय शिथिलता का ही नतीजा है कि सीएचसी केंद्रों पर विशेषज्ञ चिकित्सक के पोस्ट आज भी खाली हैं पड़े हैं।

महज एमबीबीएस चिकित्सकों से ही महकमा सीएससी केंद्र संचालित कर रहा है। वहीं केंद्र पर लगी एक्स रे मशीन वर्षों से खराब पड़ी बताया जा रहा है सूचना के बाद भी अभी तक मशीन को ठीक नहीं किया जा सका है बता दें कि डेढ़ लाख की आबादी के ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं के लिए स्थापित सीएचसी जहांगीर गंज पर जहां विशेषज्ञ चिकित्सकों की आज भी कमी बनी हुई है वहीं केंद्र पर लगी एक्सरे मशीन वर्षों से खराब पड़ी है।

क्षेत्र में सड़क दुर्घटनाओं और अन्य गंभीर मरीजों के उपचार में सेवाओं की कमी का ही नतीजा है कि केंद्र केवल मरहम पट्टी तक ही सीमित होकर रह गया है केंद्र पर एक्सरे मशीन खराब पड़े होने और विशेषज्ञ चिकित्सक की कमी होने से गंभीर रोगियों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया जाता है केंद्र से जिले की दूरी काफी अधिक होने से अक्सर गंभीर मरीज की रास्ते में ही मौत हो जाती है।

इतना ही नहीं केंद्र पर प्रतिदिन 200 से अधिक मरीजों का पंजीकरण भी हो रहा है मौजूदा समय में तैनात 3 एमबीबीएस चिकित्सकों पर ही मरीजों के लिए ईलाज की जिम्मेदारी है। केंद्र पर लगी एक्स रे मशीन दो टेक्निशियन तो तैनात मिले लेकिन मशीन वर्षों से खराब होना बताया जा रहा है। केंद्र पर प्रसव की भी सुविधा है लेकिन एक भी सर्जन चिकित्सक तैनात नहीं हुए हैं।

जिससे ऑपरेशन के मामले में प्रसव पीड़ितों को ऊपर करने का ही सहारा है केंद्र तो है लेकिन विशेषज्ञ और सर्जन चिकित्सक की कमी का ही दशा झेल रहा है। केंद्र पर चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर उदय चंद यादव डॉक्टर के के शर्मा के अलावा महिला चिकित्सक ने मरीजों का ईलाज किया। सीएचसी जहांगीरगंज अंतर्गत आने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नदियां और कमालपुर पिकार पर दो वर्षों से चिकित्सक ही नहीं है चिकित्सक ना होने से केंद्र के फार्मासिस्ट ही मरीजों का पंजीकरण कर दवा दे रहे हैं।

जबकि नरिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सक की कमी से फार्मासिस्ट गुलाब चंद यादव ने सैकड़ों से अधिक मरीजों का आज पंजीकरण कर दवा दिया मरीजों ने बताया कि चिकित्सक के ना होने से ईलाज कराने में काफी परेशानी हो रही है। इस प्रकार विभागीय अनदेखी से स्वास्थ्य केंद्रों की दशा में सुधार ना होने से सरकार द्वारा घोषित की जा रही जनहितकारी योजनाओं का लाभ आग की जनता को कैसे मिल पाएगी। केंद्र पर चिकित्सकों की कमी को पूरा करने की मांग कई बार लोग कर चुके हैं

लेकिन महकमा उदासीन नहीं दिख रहा है ऐसे में सरकार की योजनाओं का लाभ ग्रामीण जनता को मिल ले तू भी कैसे इसका अंदाजा खुद लगाया जा सकता है जबकि इस संबंध में जहांगीर गंज के सीएचसी प्रभारी डॉक्टर उदय चंद यादव ने बताया कि केंद्र पर इन दिनों वायरल फीवर ही अधिक मरीज हैं और दाद खाज का मरहम नहीं है जिसके लिए लिखा पढ़ी किया गया केंद्र पर लगी एक्सरे मशीन के बाबत बताया कि मशीन खराब की सूचना उच्च अधिकारियों को दी जा चुकी है ।

Loading...

Comments